चिल्लेकलां के साथ लोगों की परेशानियां बढ़ी, द्रास में -20.5 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज

 

डल झील में कुछेक जगहों से नावक को गुजरने के लिए रास्ता तो मिल रहा है
जम्मू-कश्मीर में सबसे सर्द 40 दिन चिल्लेकलां भले ही आज सोमवार से शुरू हो गया लेकिन इससे पहले ही कश्मीर में अन्य उच्च पर्वतीय क्षेत्राें में बर्फबारी से न्यूनतम तापमान पहले अपेक्षा काफी कम हो गया है। विश्व प्रसिद्ध कश्मीर की डल झील पूरी तरह से जम चुकी है

जम्मू,संवाददाता । जम्मू-कश्मीर में सबसे सर्द 40 दिन चिल्लेकलां भले ही आज सोमवार से शुरू हो गया लेकिन इससे पहले ही कश्मीर में अन्य उच्च पर्वतीय क्षेत्राें में बर्फबारी से न्यूनतम तापमान पहले अपेक्षा काफी कम हो गया है। विश्व प्रसिद्ध कश्मीर की डल झील पूरी तरह से जम चुकी है जबकि बढ़ती ठंड से पर्वतीय क्षेत्रों के अन्य जलस्रोत भी अछूते नहीं रहे हैं।

समूचे कश्मीर में न्यूनतम तापमान जमाव बिंदु से नीचे चल रहा है।रविवार रात को कश्मीर घाटी का तापमान -4 डिग्री सेल्सियस से नीचे रहा । हालांकि जारी शीत लहर में गत 19 दिसंबर को कश्मीर का तापमान -6.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो आप तक इस सीजन का सबसे कम तापमान है। डल झील के जम जाने से डल के भीतर रहने वाले सब्जी विक्रेताआें को सब्जियां बेचने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। डल झील में कुछेक जगहों से नावक को गुजरने के लिए रास्ता तो मिल रहा है लेकिन इससे सब्जी विक्रेता काफी परेशान हैं।श्रीनगर शहर में शून्य से नीचे तापमान रहने वाले नलों के माध्यम से होने वाली जलापूर्ति भी प्रभावित हो रही है।

वहीं विश्व प्रसिद्ध पर्यटन स्थल गुलमर्ग में -6.4 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया। गुलमर्ग में अभी तक इस सीजन में चार बार हिमपात हो चुका है।इससे क्षेत्र में विंटर गेम्स का आगाज हो चुका है। मौसम विशेषज्ञ सोनम लोटस ने बताया इस सप्ताह में कश्मीर घाटी में दो बार हिमपात होने की संभावना है। जम्मू में रात को 5.8 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया। तो वहीं केंद्रशासित प्रदेश लद्दाख का तापमान -13.1 डिग्री सेल्सियस रहा। कारगिल में -20 डिग्री सेल्सियस और द्रास में -20.5 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया।