अफगान-तालिबान के बीच अगली शांति वार्ता 5 जनवरी को, एनएसए ने कहा- अफगान में होनी चाहिए वार्ता

 एनएसए हमदुल्लाह मोहेब ने कहा है कि अगली वार्ता का स्थान अफगानिस्तान में ही होना चाहिए।


अफगान सरकार और तालिबान के बीच कतर की राजधानी दोहा में कई दौर की वार्ता में दोनों पक्षों ने समझौते के लिए तैयार होने वाले एजेंडा के बिंदुओं पर बात की और इसकी सूची तैयार की। एनएसए मोहेब ने कहा है कि अगली वार्ता अफगानिस्तान में ही होना चाहिए।

काबुल, आइएएनएस। अफगान सरकार और तालिबान के बीच कतर की राजधानी दोहा में चल रही वार्ता का दौर समाप्त हो गया है। अगली वार्ता 5 जनवरी 2021 से फिर शुरू होगी। इस बार की कई दौर में हुई वार्ता में दोनों पक्षों ने समझौते के लिए तैयार होने वाले एजेंडा के बिंदुओं पर बात की और इसकी सूची तैयार की।

अफगान वार्ताकार नदेरी ने कहा- दोनों पक्षों ने प्राथमिक सूची का आदान-प्रदान कर लिया

अफगानिस्तान के एक वार्ताकार नदेर नदेरी ने बताया कि दोनों ही पक्षों ने अपनी प्राथमिक सूची का आदान-प्रदान कर लिया है। दोनों ही पक्ष इस बात के लिए राजी हैं कि वार्ता को आगे बढ़ाया जाना चाहिए। वार्ताकार ने यह स्पष्ट नहीं किया कि जनवरी माह में शुरू होने वाली वार्ता दोहा में ही होगी या अन्य कोई जगह तय की जाएगी।

अफगान एनएसए मोहेब ने कहा- वार्ता अफगानिस्तान में होना चाहिए

अफगानिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार [ एनएसए ] हमदुल्लाह मोहेब ने कहा है कि अगली वार्ता का स्थान अफगानिस्तान में ही होना चाहिए। टोलो न्यूज के अनुसार अफगानिस्तान की सरकार ने कहा है कि वे देश में किसी भी स्थान पर वार्ता के लिए तैयार हैं। अफगान सरकार और तालिबान के बीच शांति वार्ता 12 सितंबर को शुरू हुई थी। बीच में कुछ गतिरोध के बाद हाल में तीन दौर की वार्ता चली।