कर्नाटक विधान परिषद में हंगामा, एमएलसी ने डिप्टी चेयरमैन को जबरन किया सदन से बाहर

 विधान परिषद के डिप्टी चेयरमैन को जबरन बाहर कर दरवाजा किया बंद


कर्नाटक विधान परिषद में उस वक्त हद हो गई जब यहां कार्यवाही के दौरान विधान परिषद के डिप्टी चेयरमैन को एमएलसी जबरन उठाकर सदन से बाहर ले गए और दरवाजा बंद कर दिया। ये लोग किसी बिल को लेकर अपनी असहमति जता रहे थे।

बेंगलुरु, एएनआइ। कई बार देखा गया है कि संसद या विधानसभा में कार्यवाही के दौरान सांसद या विधायक गुस्से में हंगामा करने लगते हैं। या फिर कई बार ऐसा भी देखा गया है कि सदन के सदस्य हंगामा करते हुए अध्यक्ष के पास तक पहुंच जाते हैं, लेकिन कर्नाटक विधान परिषद में तो हद ही हो गई। यहां कार्यवाही के दौरान विधान परिषद के डिप्टी चेयरमैन को एमएलसी जबरन उठाकर सदन से बाहर ले गए और दरवाजा बंद कर दिया।भारतीय जनता पार्टी के एमएलसी लेहर सिंह सिरोया ने इस घटना की आलोचना की है। उन्होंने कहा, 'कुछ MLC ने विधान परिषद के उपाध्यक्ष को जबरन कुर्सी से हटाकर गुंडों की तरह व्यवहार किया और उनके साथ दुर्व्यवहार किया। हमने अपने परिषद के इतिहास में ऐसा शर्मनाक दिन कभी नहीं देखा। मुझे शर्म आ रही है कि जनता हमारे बारे में क्या सोच होगी।'

वहीं, कांग्रेस, भाजपा और जेडीएस पर मनमानी करने का आरोप लगा रही है। कांग्रेस एमएलसी प्रकाश राठौड़ ने कहा, 'भाजपा और जेडीएस ने चेयरमैन को गैरकानूनी तरीके से उपाध्यक्ष की कुर्सी पर बैठाया, जिसके लिए सदन की तरफ से आदेश नहीं दिया गया था। दुर्भाग्यपूर्ण है कि बीजेपी इस तरह के असंवैधानिक काम कर रही है। कांग्रेस की तरफ से पहले उसे कुर्सी से हटाने को कहा गया था। बाद में हमें उन्हें खुद वहां से हटाना पड़ा।'

गोहत्या विरोधी विधेयक को जेडीएस का समर्थन नहीं

पूर्व प्रधानमंत्री और जनता दल (सेक्‍युलर) प्रमुख एचडी देवेगौड़ा (HD Deve Gowda) ने स्‍पष्‍ट कर दिया है कि उनकी पार्टी गोहत्‍या विरोधी विधेयक ( anti-cow slaughter bill) का समर्थन नहीं करेगी। उनका कहना है कि इस विधेयक को पेश करके भाजपा सरकार समाज में अशांति फैलाने की कोशिश कर रही है। इस कारण लोगों के बीच सांप्रदायिकता भी फैल सकती है, इसलिए उनकी पार्टी इस विधेयक के विरोध में है।