कोलकाता में कोविड टीकाकरण कार्यक्रम के लिए 'वैक्सीन बूथों का निर्माण करेगी बंगाल सरकार

 कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम के लिए 'वैक्सीन बूथों का निर्माण

कोरोना का टीका लगाने के बाद लोगों को आधे घंटे वैक्सीन बूथ में ही ठहरना होगा। स्वास्थ्य विभाग पहले ही ऐसे लोगों की सूची बना चुका है जो स्वास्थ्य सेवाओं से संबंधित हैं। स्वास्थ्य विभाग तैयार कर रहा रोडमैप जिलाधिकारियों को उनके जिले का बनाया जाएगा नोडल ऑफिसर।

कोलकाता, राज्य ब्यूरो।  बंगाल सरकार कोविड टीकाकरण कार्यक्रम को सफलतापूर्वक क्रियान्वित करने के लिए 'वैक्सीन बूथों का निर्माण करेगी। इसके साथ ही टीकाकरण से संबंधित अन्य आधारभूत संरचनाएं भी विकसित की जाएंगी। राज्य का स्वास्थ्य विभाग इसका रोडमैप तैयार कर रहा है।

स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक जिलाधिकारियों को उनके जिले का नोडल ऑफिसर बनाया जाएगा। प्रत्येक जिले के मुख्य स्वास्थ्य चिकित्सा अधिकारी की भी टीकाकरण कार्यक्रम को सफलतापूर्वक अंजाम देने में महत्वपूर्ण भूमिका होगी।

टीकाकरण कार्यक्रम को क्रियान्वित करने के लिए इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आइसीएमआर) की ओर से भी दिशा-निर्देश दिए गए हैं। सूत्रों से पता चला है कि आइसीएमआर ने बंगाल समेत 11 राज्यों को कोविड टीकाकरण से संबंधित दिशानिर्देश भेजे हैं। आइसीएमआर ने टीकाकरण कार्यक्रम के लिए ब्लॉक स्तर पर आधारभूत संरचना का निर्माण करने को कहा है।

बंगाल के सभी 341 ब्लॉक में पर्याप्त आधारभूत संरचना तैयार की जाएगी ताकि सूबे के प्रत्येक हिस्से के लोग आसानी से वैक्सीन बूथ का लाभ उठा सके। कोविड19 को संरक्षित रखने के लिए कोल्ड चेन का भी निर्माण किया जा रहा है। कोरोना का टीका लेने वालों को ब्लॉक स्तर पर अपना नाम परिचय पत्र के साथ दर्ज कराना होगा। शुरुआत में अग्रिम पंक्ति के स्वास्थ्य कर्मियों को कोरोना का टीका लगाया जाएगा। इसके बाद बुजुर्गों व विभिन्न बीमारियों से पीड़ित लोगों को टीका दिया जाएगा।कोरोना का टीका लगाने के बाद लोगों को कम से कम आधे घंटे वैक्सीन बूथ में ही ठहरना होगा। स्वास्थ्य विभाग पहले ही ऐसे छह लाग लोगों की सूची बना चुका है जो स्वास्थ्य सेवाओं से संबंधित हैं।