क्‍या राहुल गांधी की कांग्रेस अध्‍यक्ष के रूप में होगी वापसी, बैठक से कयासों को मिला बल

 

सोनिया गांधी और राहुल गांधी की फाइल फोटो।
कांग्रेस अध्‍यक्ष सोनिया गांधी ने शनिवार को पार्टी नेताओं के साथ बैठक की। माना जा रहा है कि इसके जरिए सोनिया गांधी ने आंतरिक रूप से तनाव को कम करने की कोशिश की और पार्टी कैडर को ऑल इज वेल संदेश देने में भी सफल रही।

 नई दिल्‍ली, एजेंसी। कांग्रेस के अध्‍यक्ष के चुनाव से आगे सोनिया गांधी ने शनिवार को पार्टी नेताओं के साथ बैठक की। माना जा रहा है कि  इसके जरिए सोनिया गांधी ने आंतरिक रूप से तनाव को कम करने की कोशिश की और पार्टी कैडर को 'ऑल इज वेल' संदेश देने में भी सफल रही। शनिवार को पार्टी के शीर्ष नेताओं के साथ बैठक का नतीजा एक सकारात्मक टिप्पणी के साथ समाप्त हुई। पृथ्वीराज चव्हाण ने जो पार्टी में सुधार के लिए चिट्ठी लिखने वाले 23 नेताओं में शामिल थे, उन्‍होंने बैठक को लेकर संतोष जताया।

उन्‍होंने कहा कि कांग्रेस के 19 नेताओं के साथ बैठक की और पार्टी की मजबूती के बारे में चर्चा की और भविष्य को लेकर चर्चा की। आगे भी और बैठक हो सकती है। पंचमढ़ी और शिमला में आयोजित 'चिंतन शिविर' में पार्टी को मजबूत बनाने के लिए आयोजित किए जाएंगे। इसके साथ ही राहुल गांधी को फिर से अध्‍यक्ष बनाने के लिए कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेताओं को मनाने की कोशिश हो रही है। इसके लिए राजस्‍थान के मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत को जिम्‍मेदारी सौंपी गई है कि वो कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेताओं को मनाएं।     

बैठक के जरिये सोनिया गांधी ने स्थिति को नियंत्रित करने और पार्टी अध्यक्ष के रूप में राहुल गांधी की वापसी के लिए मंच तैयार किया गया। बैठक के बाद वरिष्‍ठ कांग्रेस नेता और पूर्व मंत्री पवन बंसल ने कहा कि बैठक काफी अच्‍छे वातावरण में आयोजित की गई थी। अध्यक्ष के रूप में राहुल गांधी के नाम पर कोई आपत्ति नहीं है। राहुल गांधी से किसी को कोई समस्या नहीं है। यह सवाल आज के लिए नहीं है हर किसी ने कहा कि हमें राहुल गांधी के नेतृत्व की आवश्यकता है। हमें अन्य लोगों के जाल में नहीं पड़ना चाहिए जो पार्टी के एजेंडे से विचलित होने की कोशिश कर रहे हैं।सूत्रों के अनुसार, अशोक गहलोत ने कांग्रेस नेताओं की भावनाएं व्यक्त कीं। उन्होंने कहा कि हर कोई चाहता था कि भाजपा से मुकाबले के लिए राहुल गांधी को अध्‍यक्ष पद से जल्‍द से जल्‍द संभालना चाहिए। पार्टी की बैठक में सूत्रों ने कहा, राहुल गांधी ने अपनी टिप्पणी में कहा कि वह पार्टी के रूप में काम करने के लिए तैयार हैं, लेकिन सूत्र ने बताया कि उन्होंने यह भी कहा कि जो कोई भी पार्टी अध्यक्ष के रूप में पदभार संभालेगा, उसके साथ काम करने के लिए तैयार हैं।