पीएम नरेंद्र मोदी बोले, कृषि कानून पर भ्रम फैलाने वालों को परास्त करेंगे जागरूक किसान

 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज गुजरात के एक दिवसीय दौरे पर हैं

पीएम नरेंद्र मोदी गुजरात पहुंच चुके हैं यहां पहुंचकर उन्‍होंने दुनिया के सबसे बड़े सोलर विंड पार्क का शिलान्‍यास किया। पीएम ने कहा यहां के मेहनती लोगों ने एक बार फिर कच्छ को दुनिया के साथ कदम से कदम मिलाकर ला खड़ा कर दिया।

 अहमदाबाद, संवाददाता। गुजरात के कच्‍छ से मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विपक्ष पर करारा हमला बोला। तीन नए कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली की सीमाओं पर धरनारत किसानों को भी संदेश दिया। कच्छ में कई परियोजनाओं का शिलान्यास के बाद उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि दिल्ली में किसानों को भ्रमित किया जा रहा है। सत्ता में रहते जिन लोगों ने कृषि क्षेत्र में सुधार का काम नहीं किया आज भी किसानों को गुमराह कर अपना राजनीतिक हित साधने का प्रयास कर रहे हैं। मोदी ने कहा कि विपक्ष किसानों के कंधे पर बंदूक रखकर चला रहा है लेकिन देश के जागरूक किसान उनको इसका जवाब देंगे। गुजरात में कृषि व पशुपालन की आधुनिक तकनीक से समृद्धि है किसानों का उदाहरण देते हुए मोदी ने कहा कि पशुपालन का भारत की जीडीपी में 25 फ़ीसदी योगदान है जो अनाज में दाल के योगदान से भी अधिक है।

किसानों की समस्‍या के समाधान के लिए हम 24 घंटे तैयार  

गुजरात का किसान अगर मुक्त बाजार का फायदा उठा रहा है तो देश के अन्य राज्यों के किसानों को भी यह व्यवस्था मिलनी चाहिए। मोदी ने यहां आयोजित एक समारोह में लोगों से पूछा कि डेयरी में दूध देने वाले पशुपालकों से जब कांट्रेक्ट किया जाता है तो क्या उनके पशु या गाय भैंस को कोई ले गया है या किसी किसान की जमीन पर किसी ने कब्जा किया है। मोदी ने कहा कि कुछ लोगों को किसानों को गुमराह कर अपने राजनीति आगे बढ़ाने का प्रयास कर रहे हैं। मोदी ने कहा कि किसानों की हर समस्या का समाधान करने के लिए सरकार 24 घंटे तैयार है।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि पहले अच्छे लोग गुजरात के अन्य शहरों में मुंबई में पलायन करते थे रोजगार में कामकाज की तलाश में दूसरे शहरों में जाकर बसना पढ़ता था। आज कच्छ देश के युवकों को रोजगार दे रहा है। एनर्जी पार्क से 1 लाख लोगों को रोजगार मिलेगा। किसान में उद्योगों को इन प्रोजेक्ट से लाभ होगा सोलर विंड एनर्जी पार्क से इलाके में प्रदूषण कम होगा साथ ही 5 करोड़ टन कार्बन डाइऑक्साइड कम होगी यह प्रदूषण कम होने का सीधा मतलब है 90000000 पेड़ लगाने का जो लाभ होता है।

उन्होंने कहा कि कच्छ में पर्यटन के विकास से जहां यहां के व्यापार उद्योग हस्तकला को गति मिली वहीं राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए से भी यह काफी महत्वपूर्ण हो गया। पर्यटन के लिए हर साल 5 से 6 लाख लोग आते हैं इससे राष्ट्रीय सुरक्षा को भी सकारात्मक सहयोग मिला। कच्छ ने देश के लोगों को आत्मनिर्भर होना सिखाया है। भूकंप जैसी त्रासदी के बावजूद कच्छ के लोगों ने आत्मनिर्भरता का एक शानदार उदाहरण पेश किया।

कच्छ में हो रहा है विकास

पीएम मोदी ने कहा कि किसान पशुपालक आम जनता के साथ माताओं बहनों के लिए भी काफी लाभदायक होगा वह सुविधाजनक होगा। कच्छ राजधानी गांधीनगर से इतना दूर था कि लोग यहां आना पसंद नहीं करते थे अफसर व कर्मचारी यहां नियुक्ति से बसते थे और इसके बाद 2001 में आए भूकंप ने और तबाही की लेकिन कच्छ के मेहनती व खमीरवंती लोगों ने एक बार फिर कच्छ को दुनिया के साथ कदम से कदम मिलाकर ला खड़ा कर दिया।

सोलर पार्क से 30 मेगावाट बिजली का  होगा उत्पादन

पीएम मोदी ने कहा कि कच्छ के सोलर पार्क से 30 मेगावाट बिजली का उत्पादन होगा। सिंगापुर बहरीन जैसे देश की क्षेत्रफल के बराबर का होगा इसका क्षेत्रफल करीब 70 600 हेक्‍टेयर होगा। मोदी ने कहा कि कच्छ में नौकरी करना कभी काला पानी की सजा हुआ करती थी गांधीनगर सचिवालय में अधिकारी भी कहा करते थे इसे कच्छ भेज दो लेकिन आज कर्मचारी व अधिकारी खुद अपनी इच्छा से कच्छ में कुछ समय नौकरी करना चाहते हैं। खावडा में सोलर विंड एनर्जी हाइब्रिड पार्क, मांडवी में समुद्र के खारे पानी को मीठा करने के लिए डिसेलीनेशन प्लांट  में 200000 लीटर  का दूध प्रसंस्करण प्लांट अपने आप में खास है। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि लौह  पुरुष सरदार पटेल की प्रतिमा हमें कार्य करने की प्रेरणा देती है आज उनकी पुण्यतिथि है। सरदार साहब का सपना आज देश में तेजी से पूरा हो रहा है

मुख्यमंत्री रुपाणी व उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल ने करवाया कोरोना टेस्‍ट 

प्रधानमंत्री मोदी के आने से पहले गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी तथा उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल ने कोरोना का टेस्ट करवाया है। दोनों का कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आया है। प्रधानमंत्री अपने इस दौरे में कच्छ के कई सफल किसान व पशुपालकों से मुलाकात करेंगे भारत-पाक सीमा पर बड़ी संख्या में पंजाबी किसान भी खेती करते हैं पंजाबी किसानों के एक प्रतिनिधिमंडल  से भी प्रधानमंत्री विशेष रूप से मुलाकात करने वाले हैं।