भारतीय सेना का एक साथ चीन और पाकिस्तान से युद्ध की तैयारी में, लड़ने के तरीके में बदलाव करने का इरादा

 भारतीय सेना ने एक साथ चीन और पाकिस्तान से युद्ध की तैयारियां करने पर विचार शुरू कर दिया है।


सीमा पर पाकिस्‍तान और चीन के साथ जारी तनाव को देखते हुए भारतीय सेना ने लड़ने के तरीके में बदलाव करने का इरादा कर लिया है। सेना एक साथ चीन और पाकिस्तान से युद्ध की तैयारियां करने पर विचार कर रही है। पढ़ें यह रिपोर्ट...

नई दिल्ली, एएनआइ। पूर्वी लद्दाख में जारी तनाव को देखते हुए भारतीय सेना ने एक साथ चीन और पाकिस्तान से युद्ध की तैयारियां करने पर विचार शुरू कर दिया है। दो मोर्चों पर लड़ाई के लिए सेना ने दोनों देशों के खिलाफ एक साथ लड़ने के तरीके में बदलाव करने का इरादा कर लिया है। हाल के दिनों तक भारतीय सेना का पूरा फोकस पाकिस्तानी सीमा पर था। लेकिन वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) सक्रिय नहीं हैं।

इसीलिए सैन्य अभियान की तैयारी मुख्यत: पश्चिमी सीमा की ओर अधिक रहती रही है। उत्तरी सीमा पर तैनात युद्धक चार कोर में से एक ही पर्वतीय युद्ध कौशल वाली है। सरकारी सूत्रों के अनुसार मौजूदा तनाव को देखते हुए सीमा पर कोई अतिरिक्त बल या नया युद्धक कोर तैनात करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। मौजूदा टुकडि़यों की ही तैनाती में थोड़े फेरबदल के साथ चीन और पाकिस्तान का मुकाबला किया जाएगा।

उन्होंने बताया कि सेना मुख्यालय की ओर से इस संबंध में विभिन्न प्रस्तावों पर विचार किया जा रहा है। एलएसी पर अतिरिक्त तैयारियों की जरूरतों को देखते हुए विभिन्न सैन्य कमांडरों के सुझावों पर भी विचार किया जाएगा। जिस तरह भी इन टुकडि़यों का स्वरूप निर्धारित होगा। यह फैसले विचार-विमर्श से तय होंगे। भोपाल की 21 युद्धक कोर, मथुरा और अंबाला की खरगा कोर सशस्त्र बल चीन से लगी पश्चिमी, मध्य और उत्तरी सीमा पर तैनात है।तेरह लाख सैन्य बलों को नए क्रम में तैयार करने के लिए एक बड़ी कवायद हो रही है। भारतीय सेना बीएमपी, टी-90 और टी-72 टैंकों को सेना ने बड़ी तादाद में तैनात किया है।