लोगों को बोनसाई पर कार्यशाला में दी गई जानकारी, सीखा कैसे करें देखभाल

 कार्यक्रम में विशेषज्ञ ने बताया कि बोनसाई विशाल वृक्षों का छोटा रूप होता है।

पुलिस परिवार कल्याण सोसायटी (पीएफडब्ल्यूएस) की ओर से बोनसाई रोपण पर शुक्रवार को कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का आयोजन मदर टेरेसा क्रीसेंट रोड स्थित कार्यालय में किया गया था। इस मौके पर इन-हाउस ट्रेनर एसआइ जयपाल सिंह ने लोगों को बोनसाई रोपण की जानकारी दी।

नई दिल्ली, संवादाता। पुलिस परिवार कल्याण सोसायटी (पीएफडब्ल्यूएस) की ओर से बोनसाई रोपण पर शुक्रवार को कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का आयोजन मदर टेरेसा क्रीसेंट रोड स्थित कार्यालय में किया गया था। इस मौके पर इन-हाउस ट्रेनर एसआइ जयपाल सिंह ने लोगों को बोनसाई रोपण की जानकारी दी। कार्यशाला में आए लोगों को बोनसाई लगाने की तकनीक बताई गई। लोगों को बोनसाई का रोपण कैसे किया जाए, इस बारे में बताया गया।

कार्यक्रम में विशेषज्ञ ने बताया कि बोनसाई विशाल वृक्षों का छोटा रूप होता है। इसे लघु कला के रूप में भी देखा जा सकता है। लगाने के बाद बोनसाई की देखभाल और पोषण की काफी आवश्यकता होती है। इस मौके पर पीएफडब्ल्यूएस की अध्यक्ष व दिल्ली पुलिस आयुक्त की पत्नी प्रतिमा श्रीवास्तव सहित अन्य वरिष्ठ सदस्यों ने भी हिस्सा लिया। बाद में संस्था की तरफ से एसआइ जयपाल सिंह को प्रशंसा पत्र और प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया गया।

क़ृषि कानूनों को लेकर फैलाया जा रहा है भ्रम : हंस

वहींं, उत्तर-पश्चिमी क्षेत्र से सांसद हंस राज हंस ने शनिवार को अपने संसदीय क्षेत्र में कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर की ओर से लिखे गए पत्र को किसानों के बीच जाकर बांटा। इस दौरान उन्होंने किसानों से पत्र को पढ़ने की गुजारिश भी की।

उन्होंने कहा कि किसानों के बीच कृषि कानूनों को लेकर फैलाए जा रहे भ्रम को यही पत्र खत्म करेगा। किसान और सरकार के मध्य चल रहे विवाद को खत्म करने के संबंध में हाल ही में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किसानों के नाम एक पत्र लिखा है। पत्र में कृषि कानूनों के लाभ बताए गए हैं। इसके अलावा पत्र में यह भी बताया गया है कि अन्य राजनीतिक पार्टियां किस तरह से कृषि कानूनों का दुरुपयोग कर लाभ ले रही हैं।