पीएम मोदी बोले, वैश्विक संदर्भ में दोनों देशों के बीच हमारे सहयोग का बढ़ेगा महत्व

देशों के बीच कई अहम मुद्दों पर बात होनी है।
 पीएम मोदी ने कहा कि अगले साल हम दोनों संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सदस्य होंगे। इसलिए वैश्विक संदर्भ में हमारे सहयोग का महत्व बढ़ेगा। हम एक संयुक्त विजन डॉक्यूमेंट 2021-23 को लागू करेंगे जो द्विपक्षीय सहभागिता के लिए कार्ययोजना है।

नई दिल्ली, एजेंसियां। प्रधानममंत्री नरेंद्र मोदी और वियतनाम के पीएम गुयेन जुआन फुकके बीच वर्चुअल शिखर सम्मेलन हो रहा है। वर्चुअल समिट में बोलते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि वियतनाम भारत की अधिनियम पूर्व नीति का एक महत्वपूर्ण स्तंभ है और हमारे इंडो-पैसिफिक विजन का महत्वपूर्ण साझेदार भी है। उन्होंने कहा कि अगले साल हम दोनों संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सदस्य होंगे। इसलिए वैश्विक संदर्भ में हमारे सहयोग का महत्व बढ़ेगा। हम एक संयुक्त विजन डॉक्यूमेंट 2021-23 को लागू करेंगे, जो द्विपक्षीय सहभागिता के लिए कार्ययोजना है।

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि पीएम मोदी ने कहा कि हमने वैज्ञानिक अनुसंधान, परमाणु और नवीकरणीय ऊर्जा, पेट्रोकेमिकल, रक्षा और कैंसर उपचार जैसे अन्य विविध विषयों जैसे क्षेत्रों पर 7 नए समझौतों पर भी हस्ताक्षर किए हैं। हम अपने सामाजिक-सांस्कृतिक संबंधों को मजबूत करने के लिए नई पहल भी कर रहे हैं।दोनों देशों के वर्चुअल समिट के दौरान वियतनाम के प्रधानमंत्री गुयेन जुआन फुक ने कहा कि भारत और वियतनाम के बीच संबंधों के बारे में आपकी टिप्पणी के लिए मैं आपको धन्यवाद देता हूं। मुझे बहुत खुशी है कि हमारे पास यह आभासी जमा है जो द्विपक्षीय संबंधों को और गहरा करने के लिए दोनों देशों की प्रतिबद्धताओं को रेखांकित करता है। 

बता दें कि शिखर सम्मेलन के दौरान दोनों नेता व्यापक द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर विचारों का आदान-प्रदान करेंगे और भारत-वियतनाम व्यापक रणनीतिक साझेदारी के भविष्य के विकास के लिए मार्गदर्शन प्रदान कर रहे हैं।गौरतलब है कि 2020 में दोनों देशों ने उच्च-स्तरीय आदान-प्रदान बनाए रखा। वियतनाम की उप-राष्ट्रपति सुश्री डांग थी न्गोक थिन्ह इस वर्ष फरवरी में एक आधिकारिक यात्रा पर भारत आई थीं। कोरोना महामारी से उत्पन्न स्थिति पर चर्चा करने के लिए दोनों प्रधानमंत्रियों ने इस वर्ष 13 अप्रैल को टेलीफोन पर बातचीत भी की थी।