प्राकृतिक सौंदर्य के बीच झील का दीदार करने पहुंच रहे पर्यटक, बोटिंग का ले रहे मजा

 त्रिलोकपुरी स्थित संजय झील पार्क में बोटिंग करते हुए लोग


लॉकडाउन के चलते अभी बोटिंग का दाम कम है अन्य दिनों में 100 रुपये से लेकर 120 रुपये तक बोटिंग का दाम होता है। 62 एकड़ में फैली हरियाली व फूलों की बागवानी के साथ पार्क में प्राकृतिक के अनूठे सौंदर्य के बेहद करीब होने की अनुभूति होती है।

पूर्वी दिल्ली,  संवाददाता।  त्रिलोकपुरी स्थित संजय झील पार्क में पर्यटक प्राकृतिक सौंदर्य के बीच बोट से झील का लुफ्त लेने पहुंच रहे हैं। कोरोना संकट के चलते लगे लॉकडाउन के नौ महीने बाद रविवार को झील में पर्यटन विभाग द्वारा 10 बोट उतारी गई है। पहले दिन से ही पर्यटकों ने झील में बोटिंग शुरू कर दी है। झील में बोटिंग के दौरान शारीरिक दूरी का विशेष ध्यान रखा जा रहा है। बोटिंग के दौरान जहां पहले चार लोग बैठा करते थे अब सिर्फ दो लोगों को ही अनुमति मिल रही है।

डीडीए के पूर्वी क्षेत्र के मुख्य अभियंता एस एस गर्ग ने बताया कि करीब 37 एकड़ में फैली झील के पानी को सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) से साफ किया जा रहा है। झील का पानी कुछ हद तक साफ हो गया है बाकी जल्द ही झील के पानी को पूरी तरह साफ करने का प्रयास किया जा रहा है। झील किनारे सुंदरीकरण के बाद हरियाली और स्वच्छता की झलक भी देखने को मिलेगी। लॉकडाउन से पहले भी झील में बोटिंग हुआ करती थी।

यमुनापार का यह पहला ऐसा पार्क है जहां प्राकृतिक झील बनी हुई है। जहां नोएडा व गाजियाबाद सीमा पर रहने वाले लोग भी यहां बोटिंग का लुफ्त लेने के लिए आते है। झील में बोटिंग के लिए मात्र 50 रुपये से 700 रुपये में एक घंटा झील में बोटिंग करते है। लॉकडाउन के चलते अभी बोटिंग का दाम कम है अन्य दिनों में 100 रुपये से लेकर 120 रुपये तक बोटिंग का दाम होता है। साथ ही उन्होंने कहा कि करीब 62 एकड़ में फैली हरियाली व फूलों की बागवानी के साथ पार्क में प्राकृतिक के अनूठे सौंदर्य के बेहद करीब होने की अनुभूति होती है साथ ही पार्क की प्राकृतिक खूबसूरत आकृति में बनी एक्टिविटी के साथ अलग ही मनोरंजन का एहसास होता है।लॉकडाउन के बाद पार्क में सरकार से लोगों को सैर करने की अनुमति मिल गई है तो लोग भी आसपास के क्षेत्र से परिवार संग इस पार्क का आनंद लेने आ रहे हैं। यहां की मुख्य बात यह है कि बिना दामों के बच्चे व बड़े लोग मनोरंजन कर सकते हैं।