महानगरपालिका की शून्य कचरा नीति: महाराष्ट्र में पांच किग्रा.प्लास्टिक कचरा देने पर मिलेगा खाने का कूपन

 

पांच किग्रा प्लास्टिक कचरा देने पर मिलेगा 30 रुपये के चपाती-सब्जी के कूपन।
शहर में रोजाना कई टन प्लास्टिक कचरा निकलता है और महानगरपालिका उसके निपटान के लिए निजी एजेंसियों की सेवाएं लेती हैं। हमारा लक्ष्य कल्याण-डोंबिवली को जीरो वेस्ट शहर बनाने का है जो पूरे देश के लिए एक मॉडल बने।

ठाणे, प्रेट्र। प्लास्टिक कचरे के उचित निपटान के प्रति नागरिकों को प्रोत्साहित करने के लिए कल्याण डोंबिवली महानगरपालिका (केडीएमसी) ने एक स्कीम शुरू की है। इसके तहत पांच किलोग्राम प्लास्टिक कचरे के बदले खाने का कूपन दिया जाएगा।

महानगरपालिका की शून्य कचरा नीति 

महानगरपालिका के कचरा प्रबंधन विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि यह स्कीम शून्य कचरा नीति के तहत शुरू की गई है। उन्होंने कहा, 'कई सालों से शहर कचरे से परेशानी का सामना कर रहा है। हम इसके समाधान के लिए कई कदम उठा रहे हैं।

पांच किग्रा प्लास्टिक कचरा देने पर मिलेगा 30 रुपये के चपाती-सब्जी के कूपन

कल्याण डोंबिवली महानगरपालिका ने नागरिकों से अपील की है कि वे अपने प्लास्टिक कचरे को एकत्र करें। यदि वे कचरा कलेक्शन सेंटर पर पांच किलोग्राम प्लास्टिक कचरा देंगे तो उसके बदले उन्हें 30 रुपये मूल्य के 'पोली-भाजी' (चपाती-सब्जी) के कूपन दिए जाएंगे।'

कचरा कलेक्शन सेंटर बनाने की योजना

उन्होंने बताया कि इसके लिए बाजार समेत केडीएमसी की सीमा में कई जगहों पर कचरा कलेक्शन सेंटर बनाने की योजना है। शहर में रोजाना कई टन प्लास्टिक कचरा निकलता है और महानगरपालिका उसके निपटान के लिए निजी एजेंसियों की सेवाएं लेती हैं। हमारा लक्ष्य कल्याण-डोंबिवली को 'जीरो वेस्ट' शहर बनाने का है, जो पूरे देश के लिए एक मॉडल बने।