सुकमा में IED धमाके में घायल कोबरा 208 बटालियन के डिप्टी कमांडेंट विकास कुमार हुए शहीद

 सुकमा में IED धमाके में घायल कोबरा 208 बटालियन के डिप्टी कमांडेंट विकास कुमार शहीद


छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित सुकमा जिले में इंप्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (IED) धमाके में घायल हुए सीआरपीएफ की कोबरा (कमांडो बटालियन फॉर रेसोल्यूट एक्शन) बटालियान के डिप्टी कमांडेंट विकास कुमार शहीद हो गए हैं। वे 208 वीं बटालियन में तैनात थे। पढ़े पूरी खबर।

रायपुर, ब्यूरो। छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित सुकमा जिले में इंप्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (IED) धमाके में घायल हुए सीआरपीएफ की कोबरा (कमांडो बटालियन फॉर रेसोल्यूट एक्शन) बटालियान के डिप्टी कमांडेंट विकास कुमार शहीद हो गए हैं। वे 208 वीं बटालियन में तैनात थे और रविवार को सुकमा जिले के किस्टाराम इलाके में अपनी टीम के साथ सर्चिंग पर निकले थे।

इसी दौरान नक्सलियों ने उनके रास्ते पर आईइडी लगाया था। इस आईइडी को निष्क्रीय करने के दौरान विकास इसकी चपेट में आकर गंभीर रूप से घायल हुए थे। उन्हें वहां मौजूद साथी जवानों ने तुरंत रेस्क्यू कर कैंप में लाया और फिर उन्हें हेलीकॉप्टर के जरिए तत्काल उपचार के लिए रायपुर लाया गया था। यहां आज सुबह उपचार के दौरान उन्होंने अंतिम सांस ली। बता दें सुकम जिले में पिछले एक पखवाड़े के दौरान नक्सली विष्फोट की घटनाओं में सीआरपीएफ के दो अधिकारी शहीद हो चुके हैं। शहीद विकास कुमार मूल रूप से उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरपुर के रहने वाले थे। उनके परिवार में पत्नी के अलावा एक 1 साल का बेटा और 4 साल बेटी है। सुकमा में रविवार को नक्सलियों ने सुरक्षा बलों और पुलिस को निशाना बनाने के लिए इंप्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (IED) उनके गस्त वाले रास्ते पर इन्प्लांट किया था। सुरक्षा बलों की निगाह इस पर पड़ गई, लेकिन इसे डिफ्यूज करते वक्त धमाका हो गया।

इस धमाके की जद में सीआरपीएफ की कोबरा बटालियन के अफसर विकास कुमार आ गए और गंभीर रूप घायल हो गए थे, इसके बाद उन्हें उपचार के लिए रायपुर लाया गया था। बस्तर रेंज के आईजी सुंदरराज पी ने बताया कि घटना सुकमा जिले में पलोड़ी और किस्टाराम गांवों के बीच सुबह 10.40 बजे के आसपास हुई थी। घटना में घायल अधिकारी को शुरू में सीआरपीएफ के किस्ताराम फील्ड अस्पताल ले जाया गया था। आगे के इलाज के लिए उन्हें रायपुर भेजा गया था। पिछले 29 नवंबर को भी सुकमा के ताड़मेटला में नक्सलियों के लगाए आईइडी की चपेट में आने से सीआरपीएफ के एक असिस्टेंट कमांडेंट शहीद हो गए थे। इस घटना में कई जवान घायल हुए थे।