सैलजा ने कहा- हरियाणा में किसान आंदोलन के समर्थन में 3 फरवरी से शांति मार्च निकालेगी कांग्रेस

 

हरियाणा कांग्रेस अध्‍यक्ष कुमारी सैलजा की फाइल फोटो।


चंडीगढ़,। हरियाणा कांग्रेस की अध्यक्ष कुमारी सैलजा ने कहा कि गणतंत्र दिवस को दिल्‍ली में जो हुआ वह दुर्भाग्‍यपूर्ण है, लेकिन इसके लिए सरकार जिम्‍मेदार है। कांग्रेस शुरू से ही कृषि कानूनों के खिलाफ रही है। केंंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के कारण ऐसी स्थिति पैदा हुई है जिसने सभी लोगाें को परेशान कर दिया है।  हरियाणा में 3 से 5 फरवरी तक हर ब्लाक में किसान आंदोलन के समर्थन में कांग्रेस शांति मार्च निकालेगी।
हरियाणा कांग्रेस की अध्‍यक्ष कुमारी सैलजा ने कहा है कि पार्टी किसान आंदोलन के समर्थन में राज्‍य में 3 से 5 फरवरी तक शांति मार्च निकालेगी। इसके साथ ही उन्‍होंने गणतंत्र दिवस को दिल्‍ली में हुई घटना के लिए भाजपा सरकार को जिम्‍मेदार ठहराया।

यहां पत्रकारों से बताचीत में कुमारी सैलजा ने कहा पिछले कुछ अरसे से देश में जो कुछ हो रहा है वह किसी से छिपा नहीं है। तीन कृषि कानूनों की वजह से आज पैदा स्थिति ने सबको परेशान किया है। इससे आज किसान और मजदूर सहित तबके के लोग प्रभावित हुए हैं।

उन्‍हाेंने कहा कि दो महीने से किसान और मजदूर शांतिपूर्वक अपना आंदोलन चला रहे थे। कोई हिंसा की घटना नहीं हुई। किसान नेता सरकार के साथ हर बार बातचीत के लिए पहुंचे, लेकिन गणतंत्र दिवस के दिन ऐसी स्थिति उत्‍पन्‍न कर दी कि दिल्‍ली में अराजकता की हालत चरम पर पहुंच गई।

01:05Ad
2

सैलजा ने कहा कि कांग्रेस ने इन कानों की खिलाफत शुरू से की है और यही कांग्रेस का स्टैंड अब भी है। हमारा संघर्ष चलता आया है और चलता रहेगा, चाहे लोकसभा में हो या विधानसभा में। उन्‍होंने कहा कि गणतंत्र दिवस के दिन जो हुआ इसके लिए सीधे तौर पर भाजपा की सरकार जिम्मेदार है। 26 जनवरी को हुआ वह दुर्भाग्यपूर्ण था। यह कैसे हो गया इसका जवाब सरकार को देना पड़ेगा। सरकार को बताना चाहिए केि वे कौन लोग थे जो वहां तक पहुंच गए।

उन्‍होंने कहा कि किसानों की ट्रैक्टर परेड की जानकारी सरकार को थी। अगर सरकार को पता था कि कोई खालिस्तानी या आतंकी इसमें शामिल थे तो उन पर कार्रवाई क्‍यों नहीं की गई। आखिर देरी से रुट क्यों दिए गए और बदइंतज़ामी क्यों की गई। अगर कुछ लोग आपको गलत लगे थे तो आपने एक्शन क्यों नही लिया। खुफिया एजेंसी क्यों सोई हुई थी।

कुमारी सैलजा ने कहा कि किसानों को परेशान करने और पकड़ने का काम कर रही सरकार को शर्मसार होना चाहिए कि ऐसी स्थिति क्यों उत्पन्न होने दी। सरकार किसानों और मजदूरों को कटघरे में खड़ा कर क्या साबित करना चाहती है। लोकतंत्र में जनता सर्वोपरि होती है। सरकार गलतियां करती हैं लेकिन इन्हें सुधारना भी उसी का काम है। यह सरकार खुद को देश भक्त मानती है और बाकी सब क्या देशद्रोही हैं।

उन्‍हाेंने कहा कि कांग्रेस पर उंगली उठाते हैं कि कांग्रेस ने गुमराह किया। यह सरासर गलत है। भाजपा के लोग जाते हैं और लाठियां भांजते हैं। पुलिस को अकेले दोषी नहीं ठहराया जा सकता। यह घटना राजनीतिक विफलता है। आज किसान एक बार फिर इकट्ठे हो रहे हैं।