63वां स्थापना दिवस: रक्षा मंत्री राजनाथ ने कहा- डीआरडीओ की उपलब्धियों पर देश को गर्व

 

डीआरडीओ ने देश को आत्मनिर्भर बनाने का अपना संकल्प दोहराया।
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के 63वें स्थापना दिवस पर शुभकामनाएं दी हैं। उन्होंने कहा है कि आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में डीआरडीओ की तकनीकी उन्नति और उपलब्धियों पर देश को गर्व है।

नई दिल्ली, एएनआइ। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के 63वें स्थापना दिवस पर शुभकामनाएं दी हैं। उन्होंने कहा है कि आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में डीआरडीओ की तकनीकी उन्नति और उपलब्धियों पर देश को गर्व है।

रक्षा मंत्री ने कहा- डीआरडीओ की उपलब्धियां असाधारण हैं 

रक्षा मंत्री ने ट्वीट किया, डीआरडीओ के स्थापना दिवस पर मैं संगठन की पूरी टीम को शुभकामनाएं देता हूं। उनकी उपलब्धियां असाधारण हैं। 2021 तथा आने वाले वर्षों में इसकी और सफलता की कामना करता हूं।

डीआरडीओ ने देश को आत्मनिर्भर बनाने का अपना संकल्प दोहराया

इस अवसर पर डीआरडीओ ने आधुनिक स्वदेशी प्रौद्योगिकी और प्रणालियों के जरिये देश को आत्मनिर्भर बनाने का अपना संकल्प दोहराया। इसने ट्वीट किया कि अनुसंधान, विकास और रचनाशीलता की हमारी यात्रा इसी रफ्तार से जारी रहेगी।

डीआरडीओ का उद्देश्य आधुनिक रक्षा प्रौद्योगिकी के जरिये देश को सशक्त बनाना है

उल्लेखनीय है कि डीआरडीओ रक्षा मंत्रालय के तहत अनुसंधान और विकास शाखा है। इसका उद्देश्य आधुनिक रक्षा प्रौद्योगिकी के जरिये देश को सशक्त बनाना है। 1958 में एक छोटे से संगठन के रूप में इसने अपना काम शुरू किया था।

राजनाथ का चीन को सख्त संदेश

केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने चीन को एक बार फिर सख्त संदेश दिया है। उन्होंने कहा कि हम विस्तारवादी एजेंडे का मुंहतोड़ जवाब देंगे। राजनाथ सिंह ने कहा कि भारत बाहरी खतरों से निपटने के लिए पूरी तरह से सक्षम है और जो कोई भी हमारी सुरक्षा के लिए खतरा बनेगा उसे किसी भी किमत पर बख्शा नहीं जाएगा।