बीटिंग रिट्रीट में गूंजा सेना का शौर्यगान, समारोह में राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री समेत दिग्‍गज हस्तियां रहीं मौजूद


राष्‍ट्रीय राजधानी नई दिल्ली के विजय चौक पर शुक्रवार को बीटिंग रिट्रीट का कार्यक्रम आयोजित किया गया।


नई दिल्‍ली, एजेंसियां। 
गणतंत्र दिवस समारोह के समापन के अवसर पर राष्‍ट्रीय राजधानी नई दिल्ली के विजय चौक पर बीटिंग रिट्रीट कार्यक्रम शुरू हो गया है। समारोह में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह समेत तीनों सेनाओं के प्रमुख भी मौजूद रहे। इस बार बैंड के धुनों की शुरुआत 1971 की विजय गाथा से हुई। कोरोना संकट के चलते इस बार समारोह में अपेक्षाकृत कम लोगों को आने की अनुमति दी गई थी। गणतंत्र दिवस समारोह के समापन के अवसर पर राष्‍ट्रीय राजधानी नई दिल्ली के विजय चौक पर शुक्रवार को बीटिंग रिट्रीट कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस मौके पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह मौजूद रहे।

'बीटिंग द रिट्रीट' गणतंत्र दिवस समारोह के समापन के अवसर पर आयोजित किया जाता है। इस समारोह में थल सेना, वायु सेना और नौसेना के बैंड अपनी पारंपरिक धुनों को बजाते हुए कदम से कदम मिलाते हुए एक साथ मार्च करते हैं।

00:01/02:41

दरअसल यह आयोजन एक ऐसी परंपरा का हिस्‍सा है जिसमें सेना की वापसी पर उसका बैंड धुनों से जोरदार स्‍वागत किया जाता है। समारोह का समापन 'सारे जहां से अच्छा' की धुन के साथ हुआ।

यह कार्यक्रम सेना के बैरकों में वापसी का प्रतीक है। विजय चौक में आयोजित इस समारोह में सेना की आन-बान और शान का शानदार नजारा दिखाई दिया। इसके साथ ही गणतंत्र का जो महापर्व 26 जनवरी को शुरू हुआ था उसका बीटिंग रिट्रीट ( Beating Retreat) के भव्य आयोजन के साथ समापन हो गया। रिपोर्टों के मुताबिक इस बार बीटिंग रिट्रीट में 26 तरह की धुनें बजाई गई। समारोह का आयोजन शाम सवा पांच बजे से हुआ। देश में बीटिंग रिट्रीट के आयोजन की शुरुआत 1950 के दशक से हुई थी।