दंगे की साजिश रचने की आरोपित देवांगना और नताशा को जमानत देने से इन्कार


नताशा नरवाल को कोर्ट ने जमानत देने से इन्कार कर दिया।

गे। देवांगना कलीता की वकील तुषारिका मट्टू ने बताया कि उनकी मुव्वकिल और नताशा नरवाल की जमानत अर्जी कोर्ट ने खारिज कर दी है। आरोपपत्र में यह दावा भी किया गया था कि देवांगना ने प्रदर्शन स्थल पर भड़काऊ भाषण दिया।

 नई दिल्ली । दिल्ली दंगे की साजिश रचने के आरोप में गैर कानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम (यूएपीए) के तहत गिरफ्तार पिंजरा तोड़ संगठन की सदस्य देवांगना कलीता और नताशा नरवाल को बृहस्पतिवार को कोर्ट ने जमानत देने से इन्कार कर दिया। दोनों के मामले में सुनवाई करते हुए अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश अमिताभ रावत की कोर्ट ने कहा कि इतने बड़े पैमाने पर साजिश के मामले में वीडियो फुटेज का न होना इतना अहम नहीं है, क्योंकि आमतौर इस तरह की साजिश गुप्त रूप से रची जाती हैं। संदेह के बजाय यह स्पष्ट है कि इस तरह की साजिश का कोई वीडियो नहीं होगा।

गत वर्ष फरवरी में उत्तर पूर्वी दिल्ली में हुए दंगे के मामले में दायर एक आरोपपत्र में दिल्ली पुलिस ने दावा किया था कि नागरिकता संशोधन अधिनियम का विरोध करने जहांगीरपुरी से जाफराबाद पहुंची 300 महिलाओं को कथित तौर पर देवांगना कलीता ने हिंसा के लिए भड़काया था। ये महिलाएं अपने साथ हथियार, तेजाब के बोतलें और मिर्च पावडर लाई थीं।

आरोपपत्र में यह दावा भी किया गया था कि देवांगना ने प्रदर्शन स्थल पर भड़काऊ भाषण दिया। इसके अलावा नताशा नवाल पर भी कई गंभीर आरोप लगे। देवांगना कलीता की वकील तुषारिका मट्टू ने बताया कि उनकी मुव्वकिल और नताशा नरवाल की जमानत अर्जी कोर्ट ने खारिज कर दी है। बता दें कि इस दंगे में 53 लोगों की जान गई थी, जबकि 200 से ज्यादा लोग घायल हुए थे।

वहीं, लाजपत नगर थानाक्षेत्र में युवती का मोबाइल लूटकर भाग रहे आरोपित को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इसके अलावा दक्षिण और दक्षिण-पूर्वी दिल्ली पुलिस ने अलग-अलग थाना क्षेत्रों से तीन अन्य आरोपितों को भी लूट के मोबाइल फोन के साथ गिरफ्तार किया है। आरोपितों की पहचान राहुल उर्फ कौआ, रोहित उर्फ तन्नू, आमिर और राकेश उर्फ विकी के रूप में की गई है। आरोपितों से लूट के 13 मोबाइल फोन बरामद किए गए हैं। पुलिस उपायुक्त राजेंद्र प्रसाद मीणा ने बताया कि 27 जनवरी को लाजपत नगर मेट्रो स्टेशन से पैदल अपने घर जा रही एक युवती से झपटमार मोबाइल लूटकर भागने लगा। इस दौरान युवती के शोर मचाने पर आसपास के लोगों ने युवक को पकड़ लिया और जमकर पिटाई की। मामले में पुलिस को सूचना देकर आरोपित युवक को पुलिस के सुपुर्द कर दिया गया। वहीं, दक्षिणी जिले की स्पेशल स्टाफ टीम ने राकेश नाम के युवक को लूट के चार मोबाइल फोन के साथ गिरफ्तार किया है। आरोपित पर इससे पहले भी लूट और चोरी के 18 मामले दर्ज हैं