चोरी की कार ओएलएक्स पर बेचने वाला बीकॉम का छात्र गिरफ्तार

 

आरोपित के पास से चोरी की तीन कार बरामद।
गाजियाबाद निवासी बीकॉम की पढ़ाई कर रहा है। विलासितापूर्ण जीवन जीने के लिए वह कुख्यात वाहन चोर रविंदर उर्फ गौरव के साथ मिलकर वाहन चुराने लगा था। आरोपित की निशानदेही पर पुलिस ने चोरी की तीन कार बरामद की है।

नई दिल्ली,  संवाददाता। दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने चोरी की कार ओएलएक्स पर बेचने वाले आरोपित आकाश सोलंकी को गिरफ्तार कर लिया है। गाजियाबाद निवासी बीकॉम की पढ़ाई कर रहा है। विलासितापूर्ण जीवन जीने के लिए वह कुख्यात वाहन चोर रविंदर उर्फ गौरव के साथ मिलकर वाहन चुराने लगा था। आरोपित की निशानदेही पर पुलिस ने चोरी की तीन कार बरामद की है। बदमाश दिल्ली और उत्तर प्रदेश (यूपी) में था सक्रिय था। आकाश पर दिल्ली सहित यूपी में वाहन चोरी के 10 मुकदमे दर्ज हैं।

क्राइम ब्रांच के डीसीपी राकेश पावरिया ने बताया कि पुलिस को सूचना मिली थी कि कुछ बदमाश कार चोरी कर उसे ऑन-लाइन शापिंग पोर्टल पर बेच रहे हैं। इसकी जानकारी के बाद बदमाश की गिरफ्तारी के लिए एसीपी अरविंद कुमार की टीम को लगाया गया। छानबीन में पता चला कि रविंदर वाहन चोर गिरोह के सदस्य वारदात को अंजाम दे रहे हैं। वहीं, पुलिस ने आकाश सोलंकी को दबोच लिया। पूछताछ में पता चला कि वह चोरी करने के बाद कार का फर्जी दस्तावेज तैयार करवाता था। बाद में कार का फोटो और अन्य जानकारी ओएलएक्स पर डाल दी जाती थी। कोई खरीदार जब कार को खरीदने में दिलचस्पी दिखाता तो वह तय स्थान पर कार दिखा उनसे रुपये ले फरार हो जाता था।

गत दिनों सीआर पार्क इलाके में आकाश ने खुद को कार मालिक का रिश्तेदार बता कर चोरी की कार एक कार डीलर को बेच दी थी। पुलिस अधिकारी ने बताया कि आकाश गाजियाबाद के एक कॉलेज से बीकॉम दूसरे वर्ष की पढ़ाई करने के साथ ही गाजियाबाद कोर्ट में एक वकील के साथ क्लर्क के रूप में काम कर रहा है। कुख्यात वाहन चोर रविंदर से मुलाकात के बाद वह उसके गिरोह में शामिल हो गया था। बाद में उसने कार और मोटरसाइकिल चोरी करनी शुरू कर दी थी। चोरी के वाहन बेचने के लिए जिस मोबाइल नंबर से उसने ऑन-लाइन शापिंग पोर्टल पर अपना अकाउंट बनाया था वह भी फर्जी पते पर लिया गया था। पुलिस गिरोह के अन्य सदस्यों को दबोचने के लिए दबिश दे रही है।