दिल्‍ली पुलिस के घरवाले शहीदी पार्क में दे रहे धरना, ट्रैक्‍टर मार्च में हुई हिंसा का जता रहे विरोध


राकेश टिकैत की चेतावनी के बाद प्रशासन के टैंकरों से आंदोलन स्थल पर पानी पहुंच गया।

 किसानों के समर्थन में शनिवार दोपहर पहुंचे वरिष्ठ नेता अभय सिंह चौटाला ने कहा कि गाजीपुर में अपने भाई किसानों के समर्थन में आया हूं। यह आंदोलन किसानों की भावनाओं का आंदोलन है और इस आंदोलन को टूटने नहीं दिया जाएगा।

नई दिल्ली/सोनीपत/गाजियाबाद, । तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों को रद कराने की मांग लेकर 2 महीने से भी अधिक दिन से चल रहा धरना प्रदर्शन शनिवार को 66वें दिन में प्रवेश कर गया है। गाजीपुर बॉर्डर (यूपी गेट) पर चल रहे किसान आंदोलन में किसानों के समर्थन में शनिवार दोपहर पहुंचे वरिष्ठ नेता अभय सिंह चौटाला ने कहा कि  गाजीपुर में अपने भाई किसानों के समर्थन में आया हूं। यह आंदोलन किसानों की भावनाओं का आंदोलन है और इस आंदोलन को टूटने नहीं दिया जाएगा। आंदोलन की इस ऊर्जा को बरकरार रखने के लिए अलग अलग जिला व गांव से किसान भी बॉर्डर पर पहुंच रहे हैं। हमारी एकता ही हमारी ताकत है। देश के अन्नदाता केंद्र सरकार से अपने अधिकारों की मंग कर रहे हैं। हमारा देश इन्हीं अनदाताओं की वजह मजबूत है। आज ये किसान की नहीं हर मजदूर व हर वर्ग की लड़ाई है और इस आंदोलन को शांतिपूर्ण ढंग से चलाकर केंद्र सरकार किसानों की मांग को पूरा करने के लिए मजबूर करंगे। इधर, दिल्‍ली पुलिस के घरवाले शहीदी पार्क में धरना दे रहे हैं। वह बीते 26 जनवरी को हुई हिंसा का विरोध जता रहे हैं। इस हिंसा में  कई पुलिसवाले जख्‍मी हुए थे।

केंद्रीय गृहमंत्रालय ने अहम निर्णय लेते हुए सिंघु बॉर्डर, टीकरी बॉर्डर और गाजीपुर बॉर्डर पर शनिवार रात 11 बजे से रविवार रात 11 बजे तक इंटरनेट सेवा बंद करने की घोषणा की है। वहीं, पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने कहा कि बिना इजाजत के कोई लाल किले में नहीं पहुंच सकता। वे लोग सीधा लाल किला चले गए और वो लोग खुद कह रहे हैं कि हमें किसी ने नहीं रोका। आंदोलन को तोड़ने के लिए कई षड्यंत्र रचे जा रहे हैं।

इस बीच जानकारी मिली है कि किसानों के आंदोलन के चलते यूपी गेट से लेकर सिंधु बॉर्डर के बीच कई पेट्रोल पंप बंद हैं। इससे इनका कारोबार प्रभावित हो रहा है। अब तक इन पेट्रोल पंप मालिकों को करोड़ों रुपये का नुकसान हो चुका है।Truvid

 गणतंत्र दिवस पर राजधानी में मचे उपद्रव और शुक्रवार को सिंघु बॉर्डर पर हुए बवाल के बाद प्रदर्शनकारियों में अब डर का माहौल है। पुलिस की ओर से तीन तरफ से घेर लिए जाने के बाद अब हालात ऐसे बन गए हैं कि प्रदर्शनकारी यहां से भागने लगे हैं। शुक्रवार शाम को काफी लोग नरेला के रास्ते जाते हुए दिखे। सामान लादकर दो ट्रक उन्होंने नरेला की ओर खड़े कर दिए हैं। यह सब शुक्रवार को पुलिस पर किए गए हमले के बाद का माहौल है।

  • दिल्‍ली पुलिस के घरवाले शहीदी पार्क में धरना दे रहे हैं। वह बीते 26 जनवरी को हुई हिंसा का विरोध जता रहे हैं। इस हिंसा में  कई पुलिसवाले जख्‍मी हुए थे।
  • इस बीच पंजाब और हरियाणा से सिंधु बॉर्डर पर आ रहे किसानों को रोकने के लिए प्रशासन ने बड़ा निर्णय लिया है। इसके तहत दिल्ली की सीमा में प्रदर्शनकारियों के प्रवेश को रोकने के लिए राष्ट्रीय राजमार्ग एक पर भी सड़क खोदी जा रही है। इसके लिए जेसीबी की मदद ली गई है।
  • बताया जा रहा है कि अगले कुछ घंटों के दौरान सड़क पर गड्ढा कर दिया जाएगा, जिसके बाद प्रदर्शनकारी अपने वाहनों के जरिये यहां पर नहीं  आ सकेंगे। वहीं, गांव वालों को प्रदर्शन स्थल की ओर जाने से रोकने के लिए सिंघु बॉर्डर से 2 किलोमीटर पहले भारी संख्या में सुरक्षा बलों के जवान मौजूद हैं।

  • शनिवार दोपहर में हालात के मद्देनजर दिल्ली पुलिस ने गाजियाबाद और गाजीपुर के बीच नेशनल हाई-वे के दोनों ओर का रास्ता बंद कर दिया  है। यह जानकारी दिल्ली यातायात विभाग ने दी है।

  • उधर, सिंघु, टीकरी और यूपी बॉर्डर पर हजारों की संख्या में किसान अपनी मांगों को लेकर जमा हैं। इसके चलते दोनों बॉर्डर पर भारी सुरक्षा बल तैनात किया गया है। वहीं, सोनीपत, पलवल, गुरुग्राम, टीकरी बॉर्डर पर इंटरनेट सेवा बंद करने को लेकर किसान क्रांतिकारी यूनियन ने हरियाणा सरकार से मांग की है कि इन जगहों पर इंटरनेट सेवाल बहाल की जाए।

  • बता दें कि शुक्रवा को भी नए कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली-हरियाणा और उत्तर प्रदेश की सीमाओं पर किसानों का विरोध प्रदर्शन जारी है। इस बीच विरोध की कड़ी में आंदोलनकारी किसान राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्यतिथि  पर शनिवार को भूख हड़ताल पर बैठेंगे। शनिवार का दिन 'सद्भावना दिवस' के रूप में मनाया जाएगा। इस दौरान किसान सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक उपवास ऱख रहे हैं।
  • वहीं, उत्तर प्रदेश पुलिस के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर का कहना है कि पिछले दिनों गाज़ीपुर बॉर्डर पर सुरक्षा तैनाती बढ़ा दी गई थी कि कोई भी बदमाश विरोध में प्रवेश न करे और हंगामा न करे। वहीं, कुछ लोगों ने धारणा बनाई कि हम बल प्रयोग करने जा रहे हैं। हमने कहा कि निष्कर्ष पर आने से पहले हम चर्चा करेंगे और यह चल रहा है।

  • पंजाब के बठिंडा जिले के विर्क खुर्द ग्राम पंचायत ने एक सप्ताह के लिए दिल्ली सीमाओं पर किसानों के विरोध में प्रत्येक परिवार के कम से कम एक सदस्य को भेजने का फैसला किया।

किसानों को आज देशद्रोही कहा जा रहा : योगेंद्र यादव

यूपी गेट के गाजीपुर बॉर्डर पर स्वराज अभियान के प्रमुख एवं किसान प्रतिनिधि योगेंद्र यादव ने कहा कि किसानों को आज देशद्रोही कहा जा रहा है। कभी अगर ऐसा हुआ तो इस देश को कोई बचा नहीं पाएगा। किसान आंदोलन स्थल के मंच से शुक्रवार को उन्होंने किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि अपना संघर्ष जारी रखना है। उन्होंने कहा कि गणतंत्र दिवस के मौके पर दिल्ली के लाल किला में जो कुछ भी हुआ वह सरकार की विफलता को दर्शाता है। दिल्ली में हुए हर मामले को लेकर उच्च स्तरीय निष्पक्ष जांच जरूरी है। लाल किले की शर्मनाक घटना पर नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए सरकार को इस्तीफा दे देना चाहिए। उन्होंने किसानों से एकजुटता का परिचय देते हुए आंदोलन शांतिपूर्ण तरीके से जारी रखने का आह्वान किया।

दिल्‍ली सरकार ने दिया पानी

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने शुक्रवार को कहा कि दिल्ली सरकार की ओर से पानी की मदद देने के लिए हम धन्यवाद करते हैं, लेकिन हम दिल्ली का पानी नहीं लेंगे। प्रदेश सरकार पानी की व्यवस्था नहीं करेगी तो हम सड़क में बोरिंग कर पानी निकालेंगे। उन्होंने दिल्ली में उपद्रव की निष्पक्ष जांच कराने की मांग की है। उधर, राकेश टिकैत की चेतावनी के बाद प्रशासन के टैंकरों से आंदोलन स्थल पर पानी पहुंच गया।

यूपी गेट पर चला हाइवोल्टेज ड्रामा

यूपी गेट पर कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग पर 28 नवंबर से आंदोलन कर रहे किसानों को उठाने के लिए बृहस्पतिवार बृहस्पतिवार दोपहर से लेकर शुक्रवार तड़के तक आंदोलन स्थल पर हाइवोल्टेज ड्रामा चलता रहा। आंदोलन का नेतृत्व कर रहे भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत से लेकर पुलिस-प्रशासन ने एक दूसरे को पछाड़ने में कोई कसर नहीं छोड़ी। अंतत: पुलिस-प्रशासन को ही बैकफुट पर आना पड़ा और फोर्स को आंदोलन स्थल से हटा दिया गया।

पंजाब व हरियाणा के बीच दरार डालने की कोशिश

बलबीर सिंह राजेवाल ने कहा कि सरकार के लोगों ने पंजाब व हरियाणा के बीच दरार डालने की कोशिश की, लेकिन लोग इसे समझ गए हैं और भारी संख्या में हरियाणा के किसान भी आंदोलन में शरीक होने के लिए बार्डर पर पहुंच गए हैं। इसके लिए उन्होंने हरियाणा के किसानों का विशेष रूप से धन्यवाद भी किया। साथ ही उन्होंने कहा कि दिल्ली में गुरुद्वारा शीशगंज के सामने जो हुआ, वह बेहद शर्मनाक है। सरकार इस आंदोलन को हिंदू-सिख का मसला बनाने का प्रयास कर रही है। हम इसे सफल नहीं होने देंगे। यह देश सभी का है और सिख और हिंदू भाई हैं और रहेंगे।