कोरोना की उत्पत्ति जानने में जुटी डब्ल्यूएचओ टीम, चीनी विशेषज्ञों के साथ बैठकों का दौर शुरू

 

कोरोना वायरस को लेकर डब्‍ल्‍यूएचओ की टीम के साथ चीनी वैज्ञानिकों की बैठक। फाइल फोटो।

विश्व स्वास्थ्य संगठन की टीम ने शुक्रवार को चीनी वैज्ञानिकों के साथ बैठक शुरू की। कोरोना महामारी की उत्‍पत्ति की जांच करने वाली डब्‍लयूएचओ ने कहा कि व‍िशेषज्ञों की वुहान के प्रयोगशालाओं वुहान के बाजारों और अस्‍पतालों का दौरा करने की योजना है।

बीजिंग, एजेंसी। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की टीम चीन के वुहान शहर में कोरोना वायरस की उत्पत्ति जानने के प्रयास में जुट गई है। टीम के सदस्यों ने शुक्रवार से चीनी विशेषज्ञों के साथ आमने-सामने बैठकर सवाल-जवाब करना शुरू कर दिया है। चीन के इसी शहर में दिसंबर, 2019 में कोरोना का पहला मामला मिला था। यहीं से यह वायरस दुनियाभर में फैल गया था।

डब्ल्यूएचओ ने ट्वीट के जरिये बताया, 'टीम शुक्रवार से अपना पहला दौरा शुरू करने जा रही है। इसलिए उम्मीद है कि उन्हें सभी तरह की मदद और आवश्यक आंकड़े मुहैया कराए जाएंगे।' संयुक्त राष्ट्र की इस स्वास्थ्य एजेंसी ने कहा, 'सभी पहलुओं पर गौर किया जाएगा। टीम कोरोना वायरस की उत्पत्ति का पता लगाने के लिए विज्ञानी आधार को अपनाएगी।' डब्ल्यूएचओ के विशेषज्ञों की यह 14 सदस्यीय टीम गत 14 जनवरी को वुहान पहुंची थी और 14 दिनों तक क्वारंटाइन में रही।

यह टीम पता लगाएगी कि कोरोना वायरस की उत्पत्ति वुहान से हुई या नहीं। महामारी शुरू होने के बाद से ही बीजिंग पर यह आरोप लगता रहा कि वुहान शहर स्थित लेबोरेटरी से ही वैश्विक महामारी का कारण बनने वाला कोविड-19 वायरस पैदा हुआ और पूरी दुनिया में फैल गया। पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप समेत दुनिया के कई नेताओं ने जांच की मांग की थी। इस पर डब्ल्यूएचओ ने वायरस का स्त्रोत जांचने के लिए चीन जाने की बात कही थी, लेकिन शुरुआत में बीजिंग इसके लिए तैयार नहीं था। डब्ल्यूएचओ ने गुरुवार को बताया कि टीम वुहान के हुनान सीफूड मार्केट का दौरा करेगी। कोरोना के पहले मामलों का संबंध इसी मार्केट से बताया गया था। टीम ने वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी और वुहान सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल की प्रयोगशालाओं में भी जाने की योजना बनाई है।

01:09Ad
6


गौरतलब है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन के नेतृत्व में 10 विशेषज्ञों की एक अंतरराष्ट्रीय टीम 14 जनवरी को चीन के वुहान पहुंची। यह टीम पता लगाएगी कि कोरोना वायरस की उत्पत्ति वुहान से हुई या नहीं। शुरुआती आनाकानी और अंतरराष्ट्रीय दबाव के आगे झुकते हुए चीन ने डब्ल्यूएचओ की टीम को अपने यहां आने की अनुमति दी है। बीजिंग पर यह आरोप है कि उसके वुहान शहर स्थित लेबोरेटरी से ही वैश्विक महामारी का कारण बनने वाला कोविड-19 वायरस पैदा हुआ और यहीं से पूरी दुनिया में फैल गया। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सबसे पहले यह आरोप लगाया था और इसे चीनी वायरस करार दिया था।