घाटी में जल्द बहाल होगी रेल सेवा, बस सरकार के आदेश का है इंतजार

 

चीफ मैनेजर रेलवे साकिब ने कहा कि कश्मीर में रेल सेवा को शुरू करने के प्रबंध कर लिए गए हैं।


श्रीनगर: 
लगभग एक साल तक निलंबित रहने के बाद घाटी में एक बार फिर रेल सेवा शुरू करने की तैयारी की जा रही हैं। रेलवे विभाग इसके लिए तैयार है, बस इंतजार है तो कोविड की रोकथाम को लेकर जारी दिशानिर्देशों का। रेलवे कर्मचारी ट्रेक का जायजा ले रहे हैं। रेलवे अधिकारी ने कहा कि कोरोना महामारी फैलने के बाद देश के दूसरे राज्यों की तरह घाटी में भी रेल सेवा को बंद कर दिया गया था। हर दिन यहां बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामलों को देखते हुए अभी तक यहां यह सेवा शुरू नहीं की गई थी। परंतु अब काफी सुधार हो गया है। रेल शुरू करने की लगभग सभी तैयारियां हो चुकी हैं। सरकार द्वारा कोविड-19 को लेकर जरूरी दिशा-निर्देशों के जारी होते ही पटरी पर रेल दौड़ना शुरू हो जाएगी।बर्फबारी के बीच घाटी में रेल यात्रा पर्यटकों के लिए हमेशा ही आकर्षण का केंद्र रही है। इस बाद घाटी आने वाले पर्यटक इस सेवा से महरूम हैं क्योंकि कोरोना महामारी के चलते घाटी में फिलहाल रेल सेवा बंद रखी गई है।

चीफ मैनेजर रेलवे साकिब युसूफ ने कहा कि कश्मीर में रेल सेवा को शुरू करने के लिए सभी प्रबंध कर लिए गए हैं। सरकार के आदेश का इंतजार किया जा रहा है। हमें उम्मीद है कि सरकार जल्द ही एसओपी जारी करेगी ताकि देश के दूसरे राज्यों की तरह कश्मीर में भी रेल सेवा सुचारू रूप से चल सके। आपको बता दें कि बर्फबारी के बीच घाटी में रेल यात्रा पर्यटकों के लिए हमेशा ही आकर्षण का केंद्र रही है। इस बाद घाटी आने वाले पर्यटक इस सेवा से महरूम हैं क्योंकि कोरोना महामारी के चलते घाटी में फिलहाल रेल सेवा बंद रखी गई है।

साकिब युसूफ ने बताया कि अगस्त 2019 के बाद घाटी में रेल सेवा नवंबर 2019 में शुरू की गई थी। मार्च 2020 तक सेवाओं को जारी रखा गया। परंतु उसके बाद देश भर में कोरोना महामारी फैलने के बाद जैसे ही इस बीमारी ने घाटी में दस्तक दी सरकार के आदेश के बाद देश के दूसरे राज्यों की तरह कश्मीर में भी रेल सेवा को अस्थायी रूप से निलंबित कर दिया गया। अधिकारी ने यह बात भी मानी की इतने लंबें समय तक रेल सेवा बंद रहने के कारण रेलवे को काफी नुकसान हुआ है। लेकिन लोगों की भलाई के लिए यह आवश्यक भी था। अधिकारिक सूत्रों की मानें तो कश्मीर घाटी में मार्च 2020 से बंद रेल सेवा के कारण रेलवे केा करीब 40 से 50 लाख हर महीने का आर्थिक नुकसान झेलना पड़ा है।

वहीं घाटी के लोग व कश्मीर घूमने आए पर्यटक अब बेसब्री से रेल सेवा के शुरू होने का इंतजार कर रहे हैं। वे चाहते हैं कि जल्द से जल्द कश्मीर में रेल सेवा शुरू हो और वे सफेद चादर से ढकी घाटी के बीच से गुजरती रेल में बैठ प्रकृति के इन नजारों का मजा उठाएं।