एयरफोर्स रोड 100 मीटर के मसले पर रक्षा मंत्री राजनाथ से मिले विधायक नीरज शर्मा


यह इलाका केंद्रीय पॉल्युशन नियंत्रण बोर्ड ने सबसे प्रदूषित इलाके के रूप में चिन्हित किया है।

विधायक नीरज शर्मा ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की। उन्होंने रक्षा मंत्री को बताया कि पहले प्रतिबंधित क्षेत्र का दायरा 900 मीटर था जिसे घटाकर 300 मीटर और अब 100 मीटर किया गया है इस 100 मीटर इलाके में लोग नारकीय जीवन जीने को मजबूर हैं।

नई दिल्ली। एनआईटी विधानसभा क्षेत्र के एयरफोर्स रोड 100 मीटर मामले में शुक्रवार को विधायक नीरज शर्मा ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की।

अपनी भेंट में शर्मा ने रक्षा मंत्री को बताया कि पहले प्रतिबंधित क्षेत्र का दायरा 900 मीटर था जिसे घटाकर पहले 300 मीटर और अब 100 मीटर किया गया है लेकिन इस 100 मीटर इलाके में लोग प्रतिबंध के कारण नारकीय जीवन जीने को मजबूर हैं।

शर्मा ने उन्हें डिफेंस एक्ट 1903 का हवाला देते हुए बताया की रक्षा मंत्रालय सिर्फ उसी ज़मीन के लिए प्रतिबंध लगा सकता है जिसका मुआवजा किसान को दिया गया हो जबकि 100 मीटर दायरे में आने वाली भूमि के लिए कोई मुआवजा नहीं दिया गया। शर्मा ने अपने पत्र में लिखा है कि यहां 50-100 ग़ज़ में गरीब तबके के लोग रहते हैं और यह इलाका केंद्रीय पॉल्युशन नियंत्रण बोर्ड ने सबसे प्रदूषित इलाके के रूप में चिन्हित किया है। 

शर्मा ने कहा कि अवैध निर्माण रोकने की आड़ में इस इलाके के लोगों को सड़क, बिजली, पानी और सीवर जैसी मूलभूत सुविधाओं से भी वंचित किया जा रहा है। श्री सिंह ने इस मामले में अपने अधीनस्थ अधिकारियों से रिपोर्ट मांगी है। शर्मा ने भगवान राम को समर्पित एक पुस्तक भी राजनाथ सिंह को भेंट की। विधायक एनआईटी नीरज शर्मा इस मामले को विधान सभा, नगर निगम सदन की बैठक और मुख्यमंत्री के समक्ष भी उठा चुके हैं। 

उन्होंने इस मामले में रक्षा मंत्री से हस्तक्षेप करने की मांग की है जिससे 100 मीटर के दायरे में रहने वाले लोगों को कुछ सहूलियत मिल सके। प्रतिबंधित इलाका घोषित किए जाने की वजह से यहां पर तमाम तरह की समस्याएं पैदा हो गई है। इसको लेकर स्थानीय लोग विधायक से मिलकर शिकायत भी करते रहते हैं। विधायक यहां पर विकास के काम नहीं करवा पा रहे हैं क्योंकि ये प्रतिबंधित इलाके की श्रेणी में आ रहा है।