बंगाल में अगले 10 साल में भी लागू नहीं होगा सीएए, मतुआ समुदाय को गुमराह कर रहे अमित शाह: अभिषेक बनर्जी


बंगाल में अगले 10 साल में भी लागू नहीं होगा सीएएः अभिषेक बनर्जी। फाइल फोटो

 अभिषेक बनर्जी ने कहा कि अमित शाह ने कहा कि कोरोना का टीकाकरण खत्म होने के बाद सीएए लागू कर दिया जाएगा। टीकाकरण खत्म होने में अभी 10 साल का वक्त लगेगा यानी अगले एक दशक में भी सीएए लागू नहीं होगा।

राज्य ब्यूरो, कोलकाता। तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) सांसद अभिषेक बनर्जी ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के कोरोना के टीकाकरण के बाद सीएए लागू करने के एलान को झांसा करार देते हुए कहा कि वे मतुआ समुदाय को गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं। शनिवार को दक्षिण 24 परगना जिले के टोलाहाट में जनसभा को संबोधित करते हुए अभिषेक बनर्जी ने कहा कि अमित शाह ने कहा कि कोरोना का टीकाकरण खत्म होने के बाद सीएए लागू कर दिया जाएगा। टीकाकरण खत्म होने में अभी 10 साल का वक्त लगेगा यानी अगले एक दशक में भी सीएए लागू नहीं होगा। अभिषेक बनर्जी ने दावा किया कि अगले 50 वर्षों तक बंगाल की कमान तृणमूल के ही हाथों में रहेगी।

अभिषेक ने अमित शाह, भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय समेत अन्य केंद्रीय नेताओं को एक बार फिर ‘बाहरी’ करार देते हुए कहा-‘जो लोग विवेकानंद ठाकुर कहते हैं। रवींद्रनाथ टैगोर के जन्मस्थल के बारे में नहीं जानते, वे बंगाल पर कब्जा करने की कोशिश कर रहे हैं। इससे कोई फायदा नहीं होने वाला। बंगाल के एक भी बूथ में कमल नहीं खिलेगा। तृणमूल 250 सीटों पर जीत हासिल करेगी।’ तृणमूल छोड़ने वाले नेताओं पर तंज कसते हुए अभिषेक ने कहा-‘बहुतों का आजकल तृणमूल में दम घुट रहा है और वे भाजपा के आइसीयू में जाकर भर्ती हो जा रहे हैं। वहीं सीबीआइ-ईडी के डर से कुछ लोग पार्टी छोड़ रहे हैं।’ अभिषेक ने कुल्पी में जनसभा व रोड शो किया। ‘जय श्रीराम’ के नारे पर अभिषेक ने कहा-‘भाजपा के नेता जय श्रीराम कहते हैं। हम जय सियाराम कहते हैं अर्थात सीता और राम। पहले नारी का नाम आता है। भाजपा नेता यह उच्चारण नहीं करते क्योंकि वे महिलाओं का सम्मान करना नहीं जानते। मैं दावा करता हूं कि चुनाव के बाद उनसे जय सियाराम बुलवाकर रहेंगे।’ बंगाल में विधानसभा चुनाव 2021 को लेकर टीएमसी और भाजपा नेता एक-दूसरे पर हमलावर हैं।