14 करोड़ का सिर्फ एक इंजेक्शन, इस नन्‍हीं सी जान को लगना है... परिवार पाई-पाई का मोहताज

 

Jharkhand News, Zolgensma Injection: 14 माह की सृष्टि स्पाइनल मस्कुलर एट्राफी से जूझ रही है। इसे इंजेक्‍शन लगना है।

 झारखंड के पलामू जिले के पाटन थाना क्षेत्र अंतर्गत कांके कला सिक्की गांव निवासी सतीश कुमार रवि की 14 माह की पुत्री सृष्टि रानी स्पाइनल मस्कुलर एट्राफी बीमारी से जूझ रही है। इसका इलाज दुनिया का सबसे महंगा 14 करोड़ का इंजेक्शन जोल्जेंसमा से संभव है।

पलामू, सं।पलामू जिले के पाटन थाना क्षेत्र अंतर्गत कांके कला सिक्की गांव निवासी सतीश कुमार रवि की 14 माह की पुत्री सृष्टि रानी स्पाइनल मस्कुलर एट्राफी बीमारी से जूझ रही है। इस बीमारी का इलाज दुनिया का सबसे महंगा 14 करोड़ का इंजेक्शन जोल्जेंसमा से संभव है। 

पिछले डेढ़ माह से उसका इलाज छत्तीसगढ़ के बिलासपुर स्थित अपोलो अस्पताल के एनआइसीयू में चल रहा है। सतीश रवि छत्तीसगढ़ एसइसीएल में कार्यरत हैं। सतीश रवि बताते हैं कि सृष्टि का जन्म 22 नवंबर 2019 को हुआ था। वह एसएमए टाइप वन से पीडि़त है। क्रिश्चियन मेडिकल कालेज वेल्लोर की जांच रिपोर्ट से स्पाइनल मस्कुलर एट्राफी बीमारी का पता चला।

बताया कि इसका इलाज दुनिया के सबसे महंगे इंजेक्शन जोल्जेंसमा से संभव है। इसकी कीमत करीब 14 करोड़ रुपये है। इसे अमेरिका से आयात करना पड़ता है। सृष्टि फिलहाल ङ्क्षजदगी-मौत से जूझ रही है। उन्होंने विकट परिस्थिति में बच्ची की जान बचाने के लिए सरकारी स्तर पर आर्थिक सहायता मुहैया कराने की अपील की है। उन्होंने स्वास्थ्य मंत्री से विशेष सहयोग की अपेक्षा की है।