दिल्ली के 1700 निजी स्कूलों में 18 फरवरी से शुरू होगी नर्सरी दाखिले की दौड़

 

एडमिशन के लिए अभिभावकों के पास आवास प्रमाण पत्र होना चाहिए।
निदेशालय द्वारा जारी परिपत्र के बाद अब 17 फरवरी तक सभी निजी स्कूलों को निदेशालय की वेबसाइट में बच्चों के पाइंट प्रणाली को अपलोड करना होगा। 18 फरवरी से चार मार्च तक अभिभावकों को निजी स्कूलों में दाखिले के लिए फॉर्म मिलने लगेगा।

नई दिल्ली दिल्ली के 1700 निजी स्कूलों में नर्सरी दाखिला प्रक्रिया 18 फरवरी से शुरू हो रही है। दिल्ली सरकार के शिक्षा निदेशालय ने बुधवार को इस संबंध में परिपत्र जारी किया। निदेशालय की तरफ से जारी परिपत्र के बाद अब अगले सप्ताह से करीब डेढ़ लाख बच्चों की नर्सरी दाखिला रेस शुरू हो जाएगी। आमतौर पर नवबंर माह में दाखिला प्रक्रिया शुरू हो जाती है लेकिन इस साल कोरोना महामारी के कारण ये प्रकिया लटकी हुई थी जिससे अभिभावकों में काफी असमंजस की स्थिति थी।

निदेशालय द्वारा जारी परिपत्र के बाद अब 17 फरवरी तक सभी निजी स्कूलों को निदेशालय की वेबसाइट में बच्चों के पाइंट प्रणाली को अपलोड करना होगा। 18 फरवरी से चार मार्च तक अभिभावकों को निजी स्कूलों में नर्सरी, केजी और पहली कक्षा की प्रवेश स्तर की कक्षाओं में दाखिले के लिए फॉर्म मिलने लगेगा। वहीं, अभिभावकों को स्कूलों में प्रवेश पंजीकरण शुल्क के तहत 25 रुपये देना होगा। स्कूलों के प्रोस्पेक्टस (विवरण-पुस्तिका) को लेना वैकल्पिक होगा।

नर्सरी दाखिले की महत्वपूर्ण तारीखें

17 फरवरी 2021 - सभी स्कूलों को नर्सरी दाखिले से जुड़े पाइंट क्राइटेरिया को शिक्षा निदेशालय की वेबसाइट में अपलोड करना होगा।

18 फरवरी 2021 - नर्सरी दाखिला प्रक्रिया शुरू होगी और इसके लिए फॉर्म मिलने लगेंगे।

4 मार्च 2021 - स्कूलों में फॉर्म जमा कराने की अंतिम तारीख।

15 मार्च 2021 - पाइंट प्रणाली के आधार पर स्कूलों को बच्चों के अंकों को अपनी वेबसाइट में अपलोड करना होगा। इसमें वेटिंग लिस्ट में शामिल बच्चों के नाम भी होंगे।

20 मार्च 2021 - नर्सरी, केजी और पहली कक्षा के दाखिले के लिए चयनित बच्चों की पहली सूची जारी की जाएगी।

22-23 मार्च 2021 - बच्चों को स्कूल द्वारा दिए गए पाइंट को लेकर अभिभावक इमेल व पत्र लिखकर स्कूलों से बात कर सकते हैं।

25 मार्च 2021- नर्सरी दाखिले के लिए चयनित बच्चों की दूसरी सूची जारी की जाएगी। इसमें वेटिंग लिस्ट वाले बच्चों के नाम भी शामिल होंगे।

26 मार्च 2021 - बच्चों को स्कूल द्वारा दिए गए पाइंट को लेकर अभिभावक इमेल व पत्र लिखकर स्कूलों से बात कर सकते हैं।

27 मार्च 2020 - बची हुई सीटों के लिए चयनित बच्चों की दाखिले के लिए कोई सूची अगर रह गई हो तो स्कूल वो जारी कर सकते हैं।

31 मार्च 2020 - नर्सरी दाखिला प्रक्रिया समाप्त हो जाएगी।

निगरानी सेल रखेगा नजर

निदेशालय के मुताबिक हर जिलें में उप शिक्षा निदेशक की अध्यक्षता में एक निगरानी सेल बनाया गया है। सेल की जिम्मेदारी है कि वह अपने जिले में स्कूलों पर नजर रखें और ये सुनिश्चित करें कि स्कूल तय समय तक निदेशालय की आधिकारिक वेबसाइट पर दाखिला प्रक्रिया और पाइंट प्रणाली अपलोड कर दें। वहीं, सेल की जिम्मेदारी लगातार अभिभावकों की शिकायतों को भी सुनते रहना है। निदेशालय ने परिपत्र जारी कर कहा कि निगरानी सेल ये भी सुनिश्चित करे कि निदेशालय द्वारा तय नियम पाइंट प्रणाली का पालन स्कूलों द्वारा किया जा रहा है या नहीं।

दाखिले के लिए तय उम्र सीमा

नर्सरी - 31 मार्च 2021 तक बच्चे की उम्र तीन या तीन साल से ज्यादा और चार साल से कम होनी चाहिए।

केजी - 31 मार्च 2020 तक बच्चे की उम्र चार या चार साल से ज्यादा और पांच साल से कम होनी चाहिए।

कक्षा 1 - 31 मार्च 2020 तक बच्चे की उम्र पांच या पांच साल से ज्यादा और छह साल से कम होनी चाहिए।

नर्सरी दाखिले के लिए ये दस्तावेज आवास के सबूत के तौर पर मान्य होंगे

- अभिभावकों (माता-पिता) के नाम पर राशन कार्ड, स्मार्ट कार्ड होना चाहिए।

- अभिभावकों के पास आवास प्रमाण पत्र होना चाहिए।

- अभिभावकों का वोटर आइडी कार्ड।

- बिजली, पानी, टेलिफोन बिल, पासपोर्ट अभिभावकों के नाम पर होना चाहिए।

- अभिभावकों का आधार कार्ड।