रिंकू शर्मा के परिवार के लिए 1 करोड़ रुपये जुटा रहे हैं दिल्ली के पूर्व मंंत्री


रिंकू शर्मा घर में अकेला कमाने वाला था।

मंगोलपुरी में बजरंग दल के कार्यकर्ता रिंकू शर्मा की हत्या को लेकर शुक्रवार को दिनभर सियासत गरमाई रही। पीड़ित परिवार से मिलने के लिए भाजपा समेत विभिन्न हिंदू संगठनों के नेताओं का तांता लगा रहा और उन्होंने प्रशासन से उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करने की मांग भी की।

नई दिल्ली, ऑनलाइन डेस्क। दिल्ली के मंगोलपुरी इलाके में बजरंग दल कार्यकर्ता रिंकू शर्मा की हत्या के बाद भारतीय जनता पार्टी के नेता कपिल मिश्रा अब एक नई मुहिम में जुट गए हैं। उन्होंने प्रण लिया है कि वह सोमवार तक रिंकू शर्मा के परिवार के लिए 1 करोड़ रुपये जुटाकर रहेंगे। इस बाबत उन्होंने ट्वीट भी किया है- 31 लाख + 5 लाख @ManMundra जी द्वारा। अभी तक 36 लाख रुपये आ चुके रिंकु शर्मा जी के परिवार के लिए मैं सोमवार को परिवार से मिलूंगा, क्या हम सोमवार तक 1 करोड़ रुपये कर सकते हैं? रिंकू अकेला कमाने वाला था, उन्होंने हमारे लिए जीवन बलिदान किया।'

इससे पहले भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने एक वीडियो जारी कर कहा- 'रिंकू शर्मा को जघन्य तरीके से मारा गया, दिल्ली में ये पहला अपराध नहीं है, इससे पहले पिछले दो-तीन सालों के अंदर ध्रुव त्यागी, आईबी ऑफिसर अंकित शर्मा, डॉ नारंग, अंकित सक्सेना, राहुल समेत कई हिन्दुओं को मौत के घाट उतारा जा चुका है, कपिल मिश्रा ने कहा, ये सभी हत्याएं एक ही प्रकार से और एक ही उद्देश्य से हुई हैं।

दिनभर गरमाई रही सियासत

मंगोलपुरी में बजरंग दल के कार्यकर्ता रिंकू शर्मा की हत्या को लेकर शुक्रवार को दिनभर सियासत गरमाई रही। पीड़ित परिवार से मिलने के लिए भाजपा समेत विभिन्न हिंदू संगठनों के नेताओं का तांता लगा रहा और उन्होंने प्रशासन से उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करने की मांग भी की। दूसरी तरफ रिंकू को इंसाफ दिलाने के लिए देर शाम इलाके में लोगों ने कैंडल मार्च भी निकाला और दोषियों को कड़ी सजा देने की मांग की। भाजपा के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने पीड़ित परिवार को बतौर आर्थिक सहायता पांच लाख रुपये देने की घोषणा की। उन्होंने मामले की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट में कराने की भी मांग की। उन्होंने इस हत्याकांड की कड़ी निंदा की और कहा कि रिंकू ने एक आरोपित की पत्नी को खून देकर सामाजिक सद्भाव की मिसाल कायम की थी, लेकिन उसी ने उनकी हत्या कर दी। यह सामाजिक सद्भाव को बिगाड़ने की साजिश है। उन्होंने इस घटना पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अर¨वद केजरीवाल पर मौन होने का आरोप लगाया। उन्होंने दिल्ली सरकार से पीड़ित परिवार को एक करोड़ रुपये आर्थिक सहायता देने के अलावा परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने की भी मांग की। उन्होंने दिल्ली पुलिस की कार्रवाई पर संतोष प्रकट किया और कहा कि पुलिस ने त्वरित कार्रवाई की है। पुलिस को मौका दिया जाना चाहिए, वह अभी जांच कर रही है। सांसद हंसराज हंस ने कहा कि पीड़ित परिवार इसे आपसी रंजिश का परिणाम नहीं मानता। इसकी जांच के लिए विशेष दल गठित करना चाहिए। उन्होंने पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों मुलाकात कर जांच में तेजी लाने की मांग की। उन्होंने कहा कि मृतक परिवार में अकेला कमाने वाला था, इसलिए मदद के लिए सभी को आगे आना चाहिए। वहीं, लोनी के भाजपा विधायक नंद किशोर गुर्जर ने कहा कि प्रशासन को आरोपितों के मकान को ढहा देना चाहिए।

पुलिस पर खड़े किए सवाल

विश्व हिंदू परिषद के केंद्रीय संयुक्त महामंत्री डॉ. सुरेंद्र जैन ने कहा कि पिछले कुछ समय से मुस्लिम समाज में आक्रामकता बढ़ रही है। बात-बात पर हमले भी बढ़ रहे हैं। इस्लामिक जिहादी खुलेआम हंिदूुओं की मॉब लिंचिंग कर रहे हैं फिर भी पुलिस-प्रशासन व देश की सेक्यूलर बिरादरी मूक दर्शक बनी हुई है। दुर्भाग्य से पुलिस-प्रशासन द्वारा अपनी नाकामी को छुपाने के लिए नई नई कहानियां गढ़ी जा रही हैं। स्थानीय पुलिस ने यदि समय पर कार्रवाई की होती तो रिंकू आज अपने परिजनों के बीच होता। हत्यारों को बचाने का कोई और प्रयास अब हम सफल नहीं होने देंगे।