भारत में हर चौथा व्यक्ति हो चुका है संक्रमित, सीरो सर्वे से संकेत, 30 करोड़ से ज्यादा हो सकती है संक्रमितों की असल संख्या

 

देश में कोरोना संक्रमितों की वास्तविक संख्या सरकारी आंकड़े से कहीं बहुत ज्यादा 30 करोड़ हो सकती है।

कोरोना की चपेट में आने वाले लोगों का आंकड़ा 1.08 करोड़ है। सीरो सर्वेक्षण के नतीजों से जो संकेत मिले हैं उसके मुताबिक देश में कोरोना संक्रमितों की वास्तविक संख्या सरकारी आंकड़े से कहीं बहुत ज्यादा 30 करोड़ हो सकती है।

नई दिल्ली, रायटर। देश में सरकारी आंकड़ों के मुताबिक कोरोना महामारी की चपेट में आने वाले लोगों का आंकड़ा 1.08 करोड़ है। परंतु, हाल ही में सरकारी एजेंसी की तरफ से कराए गए सीरो सर्वेक्षण के नतीजों से जो संकेत मिले हैं, उसके मुताबिक देश में कोरोना संक्रमितों की वास्तविक संख्या सरकारी आंकड़े से कहीं बहुत ज्यादा 30 करोड़ हो सकती है। इसके मुताबिक देश का हर चौथा व्यक्ति इस महामारी की चपेट में आ चुका है। इस सर्वेक्षण से जुडे़ एक सूत्र ने यह जानकारी दी है।

सख्त मानकों के आधार पर सर्वे

दुनियाभर में अभी अमेरिका में संक्रमितों की संख्या सबसे ज्यादा (2.70 करोड़) है। दूसरे नंबर भारत है। ये संकेत तब मिले हैं, जबकि पिछले हफ्ते एक निजी संस्था की तरफ से कराए गए सर्वेक्षण की तुलना में यह सर्वेक्षण बहुत सख्त मानकों के आधार पर किया गया है।

आइसीएमआर का सीरो सर्वे

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आइसीएमआर) ने यह सीरो सर्वेक्षण किया है। आधिकारिक तौर पर वह गुरुवार को प्रेस कांफ्रेंस में इसके नतीजे जारी करेगी। आधिकारिक तौर पर सर्वेक्षण के नतीजे नहीं जारी किए गए हैं, इसलिए सूत्र ने अपनी पहचान उजागर करने से इन्कार कर दिया। उसने यह भी नहीं बताया कि यह सर्वेक्षण कितने लोगों पर किया गया है।

क्या है सीरो सर्वेक्षण?

आबादी में किसी बीमारी के प्रसार का आकलन करने के लिए सीरो यानी सीरोलॉजिकल सर्वेक्षण किया जाता है। यह उस बीमारी के वायरस के खिलाफ पैदा होने वाली विशिष्ट एंटीबॉडी की मौजूदगी का पता लगाकर किया जाता है। सीरो सर्वेक्षण के लिए किसी क्षेत्र की आबादी के बीच से रैंडमली लोगों के रक्त के नमूने लेकर उनकी जांच की जाती है।

पहले हर 15वां व्यक्ति पाया गया था संक्रमित

आइसीएमआर ने पिछले साल अगस्त और सितंबर में सीरो सर्वेक्षण किया था, जिसमें 10 साल से अधिक उम्र के 29,000 लोगों के रक्त के नमूनों की जांच की गई थी। आइसीएमआर ने तब कहा था कि हर 15वें व्यक्ति में कोरोना वायरस के खिलाफ एंटीबॉडीज पाई गई थी। अधिक घनी आबादी वाले शहरी झोपड़पट्टी इलाके में हर छठे व्यक्ति में इस वायरस के खिलाफ एंटीबॉडीज का पता चला था।

दिल्ली में आधी से ज्यादा आबादी संक्रमित

दिल्ली सरकार ने इसी हफ्ते एक सीरो सर्वेक्षण के नतीजे जारी किए हैं, जिसके मुताबिक राष्ट्रीय राजधानी की कुल दो करोड़ आबादी में से आधे से अधिक लोग कभी न कभी कोरोना महामारी की चपेट में आकर ठीक हो चुके हैं। कोरोना संक्रमण का पता लगाने के लिए देश की निजी क्षेत्र की डायग्नोस्टिक कंपनी थायरोकेयर टेक्नोलॉजी ने सात लाख लोगों की जांच की थी। कंपनी के प्रमुख ने पिछले हफ्ते रायटर को बताया कि इस जांच में पता चला था कि 55 फीसद आबादी पहले ही संक्रमित हो चुकी होगी।