जिला अस्पताल में बनेगा गार्डन, बदलेंगे पार्किंग स्पॉट

 

परिसर में पांच स्थान चिह्नित किए गए हैं, जहां छोटे-बड़े गार्डन विकसित होंगे।

रख-रखाव के अभाव में जिला अस्पताल की बिल्डिंग खराब हालत में पहुंच गई है। अस्त-व्यस्त परिसर और फैली गंदगी जिला अस्पताल की पहचान बन गई है लेकिन अस्पताल की मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. रेनू अग्रवाल ने आपरेशन कायाकल्प में प्रतिभाग लेने के लिए अस्पताल की तस्वीर बदलनी शुरू कर दी।

नोएडा । अव्यवस्था, जर्जर भवन समेत कई कमियाें के चलते ऑपरेशन कायाकल्प से दूर रहने वाले जिला अस्पताल की सूरत आने वाले दिनों में बदली-बदली नजर आएगी। सेक्टर-30 स्थित जिला अस्पताल में बाहर गार्डन बनने वाला है। अंदर भी साज-सज्जा होगी और पार्किंग स्पॉट बदलेगा। अस्पताल का कायाकल्प भी शुरू हो गया है। परिसर में पांच स्थान चिह्नित किए गए हैं, जहां छोटे-बड़े गार्डन विकसित होंगे।

रख-रखाव के अभाव में जिला अस्पताल की बिल्डिंग खराब हालत में पहुंच गई है। अस्त-व्यस्त परिसर और फैली गंदगी जिला अस्पताल की पहचान बन गई है, लेकिन अस्पताल की मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. रेनू अग्रवाल ने आपरेशन कायाकल्प में प्रतिभाग लेने के लिए अस्पताल की तस्वीर बदलनी शुरू कर दी है। वर्तमान में जिला अस्पताल की स्थिति में थोड़ा सुधार आया है, लेकिन इसे और अधिक बेहतर बनाने के लिए अस्पताल के अस्त-व्यस्त परिसर काे सुंदर और व्यवस्थित बनाने का कार्य शुरू कर दिया है।

जिला अस्पताल में कैंटीन के पास से गंदगी हटाकर पार्क विकसित किया जाएगा। इसके अलावा ओपीडी के सामने और इमरजेंसी के पास कुल पांच स्थान पर गार्डन बनाने की तैयारी है। मरीज व तीमारदार गार्डन में बैठकर हरियाली का लुत्फ उठा सकेंगे। साथ ही सभी खाली जगह रंगीन कुर्सियां बिछाई जाएंगी। इसके लिए शासन को पत्राचार किया गया है।

अंदर भी हाेंगे काफी बदलाव

पिछले एक माह में जिला अस्पताल के अंदर काफी बदलाव हुए हैं। डायलिसिस यूनिट व सीटी स्कैन मशीन स्थापित की गई है, जिसका हर दिन 50 से अधिक मरीज लाभ उठा रहे हैं। वहीं, अस्पताल परिसर में एंटी रेट्रोवायरल थेरेपी (एआरटी) सेंटर स्थापित करने का कार्य चल रहा है। जगह-जगह पानी टपकने की समस्या भी जल्द खत्म की जाएगी। पेयजल व्यवस्था में सुधार हाेगा।

काफी समय से अस्पताल आपरेशन कायाकल्प का हिस्सेदार नहीं बन पाता था। अस्पताल का सौंदर्यीकरण कर प्रदेश में प्रथम स्थान हासिल करने पर जोर दिया जाएगा। हरियाली बढ़ने से मरीजों व तीमारदारों को लाभ होगा।