स्वंयभू बाबा बनने और विवादों में घिरे रहने की पूरी कहानी

 

स्वामी ओम अपने गले में एक दर्जन से अधिक माला और बड़ा सा ओम पहनते थे।

बिग बॉस सीजन 10 से सुर्खियों में आए स्वामी ओम का विवादों से पुराना नाता रहा है। वो स्वंयभू बाबा थे। उनको कई नामों से भी जाना जाता था। बिग बॉस में आने के बाद वो एक विशेष चेहरा बन गया। टीवी दुनिया में उनकी अलग पहचान बन गई।

नई दिल्ली, ऑनलाइन डेस्क। बिग बॉस-10 सीजन से सुर्खियों में आए स्वामी ओम का विवादों से पुराना नाता रहा है। वो स्वंयभू बाबा थे। उनको कई नामों से भी जाना जाता था मगर बिग बॉस-10 के सीजन में आने के बाद वो एक विशेष चेहरा बन गया। टीवी दुनिया में उनकी अलग पहचान बन गई। स्वामी ओम को एस सदाचारी साईंबाबा जी, विनोद आनंद झा के नाम से भी जाना जाता था। स्वामी ओम को उनके व्यवहार और विवादों के कारण कई बार जनता द्वारा पीटा गया है। उन्हें चोरी के आरोप में गिरफ्तार भी किया गया था। 

गले में दर्जन भर माला और बड़ा सा ओम 

स्वामी ओम अपने गले में अलग-अलग तरह की एक दर्जन से अधिक मालाएं पहनते थे। इसके अलावा वो अपने गले में अपनी पहचान के अनुरूप एक बड़ा सा ओम भी पहनते थे। उनको किसी मठ या अन्य जगह से कोई उपाधि नहीं मिली थी मगर वो अपने को स्वंय बाबा कहलवाना पसंद करते थे। 

ओम ने अपने को राजनीति और कुंडली देखने वाले बाबा के रूप में भी पहचान बना रखी थी। कुछ राजनीतिक लोगों से भी बाबा की जान पहचान था जिसकी वजह से राजनीतिक हलके में भी उनको कुछ लोग जानते थे। उन्होंने एस्ट्रोलॉजी में एमए किया हुआ था। अपनी बोली की वजह से भी वो पहचाने जाते थे। उनका कहना था कि वह अपना जीवन आध्यात्मिक और राजनीतिक दोनों तरह से दूसरों की सेवा में समर्पित करना चाहते हैं। वो अपना संबंध नई दिल्ली के पालिका बाजार से एक स्वतंत्र राजनीतिक दल से बताते थे।

बिग बॉस-10

स्वामी ओम बॉलीवुड के मेगास्टार सलमान खान द्वारा होस्ट किए जाने वाले टीवी शो बिग बॉस-10 वें सीजन का हिस्सा थे। वो इस सीजन के पहले प्रतियोगी रहे थे। सलमान खान ने जब उनको मंच पर बुलाया था तो उन्होंने अपना परिचय बहुत प्रभावशाली तरीके से दिया था। उन्हें एक कार्य के दौरान साथी प्रतियोगियों पर अपना पेशाब फेंकने के बाद घर से निकाल दिया गया था।

कार्यक्रम में बुलाए गए, भीड़ ने पीटकर भगा दिया

दिल्ली में स्वामी ओम को नाथू राम गोडसे की जयंती के अवसर पर आयोजित एक कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के रूप में आमंत्रित किया गया था। इसमें वो मुख्य अतिथि

थे, इसलिए उन्हें मंच पर आने और कुछ शब्द कहने के लिए कहा गया। जब वह एक मंच पर भाषण करने के लिए आगे बढ़े तो भीड़ उत्तेजित हो गई, भीड़ ने उनको पकड़ लिया और उनकी पिटाई शुरू कर दी। स्वामी ओम को अपने हाथों में विग लेकर भागना पड़ा था। 

जंतर-मंतर पर कैंडल मार्च 

इससे पहले स्वामी ओम को महिलाओं ने जंतर-मंतर पर एक कैंडल लाइट मार्च में भी पीट दिया था, इस कैंडल मार्च का आयोजन अमरनाथ तीर्थयात्रा हमले के पीड़ितों के लिए आयोजित किया गया था। इसके बाद एक हिंदी टीवी समाचार चैनल के साथ एक लाइव साक्षात्कार में स्वामी ओम ने दावा किया था कि उन्होंने 'बिग बॉस' के नए साल के विशेष एपिसोड के दौरान बिग बॉस के घर में आने पर सलमान खान को थप्पड़ मारा था।

विवादों से भी रहा नाता

चार साल पहले स्वामी ओर के भाई के द्वारा एक मुकदमा दर्ज कराया गया था। इसमें उन्हें गिरफ्तार किया गया था। उनके भाई ने ही उन पर 9 साल पहले दुकान से साइकिलें और कुछ दस्तावेज चुराने का आरोप लगाया था। 2019 के लोकसभा चुनावों के दौरान उन्होंने चुनाव लड़ने की घोषणा की थी और इसके लिए नई दिल्ली सीट को चुना था। 

प्रतियोगी पर फेंक दी थी पेशाब 

स्वामी ओम ने बिग बॉस-10 सीजन में सभी घरवालों की नाक में दम कर दिया था। वो लड़कियों के लिए अपमानजनक बातें करते थे। हद तो तब हो गई थी जब एक टास्क के दौरान स्वामी ओम ने दूसरी प्रतियोगी बानी जे पर अपनी पेशाब फेंक दी थी। उनकी इस हरकत से सभी घरवाले काफी खफा हो गए थे। बाद में उन्हें सलमान ने फटकार लगाकर घर से निकाल दिया था।