कांस्टेबल विक्रम सिंह ने साहस व सुझबूझ से वृद्ध दंपत्ति सहित चार की बचाई थी जान

 

आग से चार लोगों की जान बचाने वाले कांस्टेबल विक्रम सिंह सम्मानित हुए।

आग की सूचना मिलते ही जमरुदपुर बीट में तैनात कांस्टेबल विक्रम सिंह तुरंत मौके पर पहुंचे थे। पहले उन्होंने हथौड़ा की व्यवस्था कर दरवाजे का ताला तोड़ दमकल जाने का रास्ता बनाया। वहीं घटना स्थल पर जाकर पहले उन्होंने भवन की पीएनजी लाइन और बिजली काटी।

नई दिल्ली, संवाददाता। दिल्ली पुलिस आयुक्त एसएन श्रीवास्तव ने ग्रेटर कैलाश इलाके में आग से चार लोगों की जान बचाने वाले कांस्टेबल विक्रम सिंह को सम्मानित किया। घटना के दौरान जान पर खेलकर उन्होंने वृद्ध दंपत्ति सहित चार की जान बचाई थी। इस मौके पर पुलिस अधिकारी ने कांस्टेबल के साहस और सुझबूझ की सराहना भी की। पुलिस के मुताबिक सात फरवरी को पुलिस को ग्रेटर कैलाश-1 स्थित एन ब्लाक में आग की सूचना मिली थी।

आग की सूचना मिलते ही जमरुदपुर बीट में तैनात कांस्टेबल विक्रम सिंह तुरंत मौके पर पहुंचे थे। पहले उन्होंने हथौड़ा की व्यवस्था कर दरवाजे का ताला तोड़ दमकल जाने का रास्ता बनाया। वहीं, घटना स्थल पर जाकर पहले उन्होंने भवन की पीएनजी लाइन और बिजली काटी। वे जब पहली मंजिल पर गए तो पाया कि एक युगल आग के बीच फंसा है।

इसके बाद उन्होंने बगैर समय गवाए महिला को अपने कंधों पर उठाकर दोनों को सुरक्षित बाहर निकाला। इसी दौरान उन्हें पता चला कि छत पर दो वृद्ध दंपति भी फंसे हुए हैं। लिहाजा वे अपनी जान की परवाह किए बगैर छत पर गए और 85 वर्ष की वृद्धा को अपने कंधों पर उठाकर व 91 वर्षीय वृद्ध को सहारा देते हुए दोनों को सुरक्षित बाहर निकाल उनकी जान बचाने में सफल रहे। सम्मान दिए जाने के दौरान स्पेशल सीपी साउथ जोन सतीश गोलचा और डीसीपी अतुल ठाकुर भी मौजूद थे। इधर सोशल मीडिया पर भी इसकी तारीफ हो रही है। कई यूजर इस घटना का जिक्र करते हुए कांस्‍टेबल विक्रम सिंह की तारीफ कर रहे हैं। जिस तरह से विक्रम सिंह ने हिम्‍मत और हौसला दिखाते हुए अपनी जान की परवाह किए बगैर बुजुर्ग दंपती की जान बचाई वह काबिले तारीफ है। बता दें कि दिल्‍ली में आए दिन आग लगने की घटना होते रहती है मगर दमकल विभाग हो या फिर पुलिस विभाग हर किसी की मुस्‍तैदी के कारण ही बड़ा हादसा होने से बच जाता है।