ट्रंप प्रशासन की कठोर आव्रजन नीतियों को पलटने के लिए बाइडन ने कार्यकारी आदेशों पर लगाई मुहर

बाइडन ने उन तीन कार्यकारी आदेशों पर दस्‍तखत किए हैं जो ट्रंप प्रशासन की कठोर आव्रजन नीतियों को पलट देंगे।

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने उन तीन कार्यकारी आदेशों पर दस्‍तखत किए हैं जो ट्रंप प्रशासन की कठोर आव्रजन नीतियों को पलट देंगे। इन कठोर आव्रजन नीतियों पर बच्चों को उनके परिजनों से अलग करने के आरोप हैं।

वाशिंगटन, पीटीआइ। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने उन तीन कार्यकारी आदेशों पर दस्‍तखत किए हैं जो ट्रंप प्रशासन की कठोर आव्रजन नीतियों को पलट देंगे। इन कठोर आव्रजन नीतियों पर बच्चों को उनके परिजनों से अलग करने के आरोप हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने उक्‍त जानकारी देते हुए कहा कि उनके आदेश निष्पक्ष और मानवीय कानूनी आव्रजन प्रणाली सुनिश्चित करेंगे। इन आदेशों से अमेरिका में अपना भविष्य तलाश रहे हजारों भारतीय पेशेवरों को लाभ होगा।

बाइडन ने मंगलवार को व्हाइट हाउस में उपराष्ट्रपति कमला हैरिस और गृह सुरक्षा मंत्री एलेजांद्रो मेयरकस की मौजूदगी में कहा कि मैं नए कानून नहीं बना रहा हूं वरन बुरी नीति का खात्मा कर रहा हूं। उन्‍होंने कहा कि अमेरिका के पास निष्पक्ष और मानवीय कानूनी आव्रजन प्रणाली होने की वजह से देश अधिक मजबूत, सुरक्षित और संपन्न होगा। नई आव्रजन प्रणाली से सीमाओं का बेहतर प्रबंधन होगा।

बाइडन ने कहा कि कार्यकारी आदेश आव्रजन प्रणाली को मजबूत बनाने और उन कदमों पर आधारित है जो कार्यकाल के पहले दिन लोगों की आकांक्षाओं की रक्षा करने और मुसलमानों पर लगे प्रतिबंध को हटाने के लिए उठाए गए थे। बाइडन ने अपने कार्यकारी आदेश में कहा है कि संघीय सरकार को ऐसी अच्छी नीतियां बनानी चाहिए जो एकीकरण और नागरिकता को बढ़ावा देती हों। इसमें देश के लोकतंत्र में सबकी भागीदारी को शामिल किया जाना चाहिए।

बाइडन ने कहा हम अमेरिका को शर्मिंदा करने वाले ट्रंप प्रशासन के उन कदमों को पलटने जा रहे हैं जिन्होंने सीमा पर एक तरह से बच्चों को उनके परिवारों से दूर कर दिया। मालूम हो कि ट्रंप के कार्यकाल में अवैध आव्रजन को रोकने के प्रयास के तहत पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के प्रशासन की नीतियों के तहत अमेरिका-मेक्सिको सीमा पर बिना दस्तावेज वाले वयस्कों को उनके बच्चों से अलग कर दिया गया था। रिपोर्टों के मुताबिक इस नीति के चलते 5,500 से अधिक परिवार अलग हो गए थे।