क्या राकेश टिकैत की मौजूदगी में गाजीपुर बॉर्डर पर लगे 'पाकिस्तान जिंदाबाद' के नारे?

 


भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत की फाइल फोटो।

शुक्रवार को इंटरनेट मीडिया पर वायरल 20 सेकेंड के इस वीडियो में राकेश टिकैत फावड़े से मिट्टी को समतल कर रहे हैं। वीडियो पांच फरवरी की शाम का बताया जा रहा है। इस संबंध में राकेश टिकैत का पक्ष जानने के लिए उन्हें काल की गई लेकिन रिसीव नहीं हुआ।

नई दिल्ली/गाजियाबाद। भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत के यूपी गेट पर फावड़े से मिट्टी समतल करते वक्त पाकिस्तान के समर्थन में नारे लगाए जाने का वीडियो वायरल हुआ है। इस बाबत भाकियू के मीडिया प्रभारी धर्मेंद्र मलिक ने इस पर कहा कि वीडियो में एडिटिंग की गई होगी। किसी ने भी नारे नहीं लगाए हैं। शुक्रवार को इंटरनेट मीडिया पर वायरल 20 सेकेंड के इस वीडियो में राकेश टिकैत फावड़े से मिट्टी को समतल कर रहे हैं। वीडियो पांच फरवरी की शाम का बताया जा रहा है। इस संबंध में राकेश टिकैत का पक्ष जानने के लिए उन्हें काल की गई, लेकिन रिसीव नहीं हुआ।

वहीं, भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने यूपी गेट पर कहा कि जो चैनल उनकी संपत्तियां गिनवा रहे हैं, उनसे कोर्ट में निपटा जाएगा। बेबुनियाद खबर चला रहे चैनलों के खिलाफ वह कानूनी कार्रवाई करेंगे। अपनी संपत्ति को लेकर भाकियू प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि मेरे बारे में अफवाह फैलाई जा रही है कि मैंने बहुत पैसे जोड़ रखे हैं। मैं कहता हूं कि..हां, मेरे पास बहुत पैसे हैं, क्योंकि सभी किसानों की जमीन मेरी अपनी है। अब इसकी नपाई कर लो। उन्होंने कहा कि 18 फरवरी को रेल रोको कार्यक्रम पूरे देश में चलेगा।

वहीं, शुक्रवार को किसान नेता राकेश टिकैत ने विवादित बयान देते हुए दिल्ली के लाल किला को मुर्दों का घर बता दिया।  उन्होंने यह आपत्तिनजक बयान हरियाणा के झज्जर में आयोजित दलाल खाप की महापंचायत में दिया। उन्होंने मंच से ही 26 जनवरी को लालकिले पर हुई हिंसात्मक घटना के संबंध में कहा कि वह तो मुर्दों और भूतों का घर है। वहां कौन से कानून बनते हैं। वहां किसी को जाना ही नहीं था। एक बालक को बहकाकर सात बजे बयान दिलवाया और अगले दिन नौ बजे उसे लालकिले पर भेज दिया। यह साजिश थी। हमें जाना ही होता तो संसद जाते और कोई नहीं रोक पाता।