पीयूष गोयल ने संसद में दी जानकारी, आखिरी बार रेल हादसे में कब गई थी किसी यात्री की जान


भारतीय रेलवे (Indian Railways) से जुड़े आंकड़े केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने राज्यसभा में दिए

रेल दुर्घटना से अंतिम यात्री की मृत्यु 22 मार्च 2019 को हुई थी। केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने बताया कि नए पुनर्गठित रेलवे बोर्ड में पहली बार एक नामित महानिदेशक सुरक्षा नियुक्त किया गया है।

नई दिल्ली, एजेंसियां। केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को राज्यसभा में रेलवे से जुड़े हुए आंकड़े बताए। उन्होंने कहा कि लगभग 22 महीनों से भारत में ट्रेन दुर्घटनाओं के कारण एक भी यात्री की मौत नहीं हुई है। रेल दुर्घटना से अंतिम यात्री की मृत्यु 22 मार्च 2019 को हुई थी। गोयल ने आगे कहा कि नए पुनर्गठित रेलवे बोर्ड में पहली बार एक नामित महानिदेशक सुरक्षा नियुक्त किया गया है।

राज्यसभा में रेलवे पुलों की स्थिति के बारे में बात करते हुए गोयल ने कहा कि पिछले 6 वर्षों में हमने अधिक से अधिक मात्रा में सुरक्षा पर ध्यान केंद्रित किया है। मंत्री ने कहा कि सरकार ने पुल की मरम्मत और रखरखाव पर अपना ध्यान केंद्रित किया है।

मानसून से पहले हमारे पास निरीक्षण की बहुत मजबूत व्यवस्था है। प्रमुख पुलों, और सड़क के ओवर ब्रिजों के महत्वपूर्ण निरीक्षण का आंकड़ा वहीं लिख दिया गया है या निकटतम रेलवे स्टेशन को दे दिया गया है।उन्होंने कहा कि आम जनता इस बात से अवगत हो सकती है कि रेलवे कैसे पुलों का रखरखाव कर रही है, जिससे लोगों में आत्मविश्वास पैदा होगा। 

इसके साथ ही राज्यसभा में कोरोना वैक्सीन की जानकारी देते हुए वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि वैक्सीन को लेकर भारत का निर्यात 8 फरवरी तक लगभग 338 करोड़ रुपये रहा है। गोयल ने सदन कहा कि वैक्सीन का निर्यात जनवरी में शुरू हुआ था। भारत पहले घरेलू वैक्सीन की आवश्यकता का ध्यान रख रहा है और उसके आधार पर मित्र देशों को कोरोना के टीके दिए जा रहे हैं।