पीएम नरेंद्र मोदी ने बंगाल को दी नई सौगात, दक्षिणेश्वर तक मेट्रो सेवा का किया उद्घाटन

 

पीएम नरेंद्र मोदी ने दक्षिणेश्वर तक मेट्रो सेवा का किया उद्घाटन। फाइल फोटो

पीएम मोदी कलाईकुंडा से झाड़ग्राम के बीच तीसरी लाइन अजिमगंज और खड़ागागढ़ शाखा के बीच दूसरी लाइन हावड़ा-बर्द्धमान कट लाइन डानकुनी और बरूईपाड़ा के बीच चौथी लाइन और हावड़ा-बर्द्धमान मेन लाइन में रसूलपुर व मगरा के बीच तृतीय लाइन का भी उद्घाटन किया।

राज्य ब्यूरो, कोलकाता। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बंगाल के लोगों को मेट्रो सेवा समेत रेलवे की नई सौगत दी। सोमवार को हुगली जिले के शाहगंज से नोआपाड़ा से लेकर दक्षिणेश्वर तक मेट्रो सेवा का वर्चुअल माध्यम से उद्घाटन किया। इसके साथ ही पीएम मोदी कलाईकुंडा से झाड़ग्राम के बीच तीसरी लाइन, अजिमगंज और खड़ागागढ़ शाखा के बीच दूसरी लाइन, हावड़ा-बर्द्धमान कट लाइन, डानकुनी और बरूईपाड़ा के बीच चौथी लाइन और हावड़ा-बर्द्धमान मेन लाइन में रसूलपुर व मगरा के बीच तृतीय लाइन का भी उद्घाटन किया। पीएम मोदी ने कहा कि युवाओं, कर्मचारियों और श्रमिकों को काफी लाभ होगा और कम समय में यात्रा तय कर पाएंगे।

कोलकाता मेट्रो को देश का पहला मेट्रो होने का गौरव प्राप्त है। आज भारत में जो भी निर्माण हुआ है। उसमें मेड इन इंडिया की छाप स्पष्ट दिखाई दे रही है। अब टेक्नोलॉजी भारत की अपनी है। इससे गुणवता बढ़ी और ट्रेन की स्पीड भी बढ़ रही है। देश की आत्मनिर्भरता का अहम केंद्र रहा है। यहां से पूर्वी भारत के साथ व्यापार की आपार संभावनाएं हैं। इसी कारण यहां के रेल नेटवर्क को सशक्त करने का गंभीर प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि बीते छह सालों में कई परियोजनाओं का उद्घाटन किया गया है। इससे बंगाल के रेल नेटवर्क और भी मजबूत होगा। उन्होंने कहा कि इन रेल लाइनों से जीवन बेहतर होगा ही साथ ही उद्योग को भी बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने कहा कि न केवल रेलवे का विकास करेंगे, वरन बंगाल के सपनों को पूरा करेंगे।

नोआपाड़ा से दक्षिणेश्वर के बीच 4.1 किमी का विस्तार किया गया है और मंगलवार से मेट्रो सेवा शुरू हो जाएगी। इस विस्तार पर लागत करीब 464 करोड़ रुपये आई है। इस रूट पर मेट्रो सेवा शुरू होने के बाद आम जन को ट्रैफिक से राहत मिलेगी। वे आराम से यात्रा कर सकेंगे। साथ ही लाखों पर्यटकों व भक्तों को राहत मिलेगी जो दक्षिणेश्वरी काली दर्शन के लिए जाते हैं। यानी मेट्रो शुरू होने के बाद विश्व प्रसिद्ध कालीघाट की काली मां और दक्षिणेश्वर काली मां का मंदिर इस मेट्रो सेवा से जुड़ गया है। इससे प्रत्येक वर्ष 50 लाख यात्रियों को सुविधा मिलने की संभावना है।