कोरोना के एंटीवायरल मेडिसीन की खोज का दावा, ब्रिटेन में पौधे से बनाई गई है ये दवा

 

कोरोना के खिलाफ खोजी गई प्रभावी एंटीवायरल दवा

कोरोना वायरस के संक्रमण से जूझती दुनिया के तमाम देश इसके खात्मे के लिए शोध में जुटे हैं। कई देशों ने वैक्सीन विकसित कर ली है वहीं ब्रिटेन के शोधकर्ताओं ने दावा किया है कि इस महामारी से निजात के लिए एक पौधे से उन्होंने असरकारी दवा बनाई है।

लंदन, आइएएनएस। दुनिया भर में कोविड-19 महामारी से जंग जारी है। दुनिया के सभी देशों में इसके खात्मे के लिए शोध कार्य हो रहे हें। कई देशों ने वैक्सीन विकसित कर ली है। इस क्रम में ब्रिटेन के शोधकर्ताओं ने दावा किया है कि इस महामारी से निजात के लिए एक पौधे से उन्होंने असरकारी दवा बनाई है। इनका कहना है कि वैज्ञानिकों ने कोरोना महामारी के खिलाफ बेहद प्रभावी एक एंटीवायरल दवा की पहचान की है। इसके माध्यम से हम यह भी पता लगा सकते हैं कि भविष्य में होने वाली महामारियों को कैसे रोका जा सकता है।

ब्रिटेन स्थित नॉटिंघम विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने पौधे से यह दवा बनाई है और प्रयोग के दौरान यह पाया है कि इसकी एक छोटी सी खुराक कोरोना सहित तीन प्रमुख प्रकार के वायरस के खिलाफ प्रभावी तरीके से काम करती है। यह अध्ययन 'वायरसेस' नामक जर्नल में प्रकाशित हुआ है और इस एंटीवायरल दवा के माध्यम से बड़े पैमाने पर संक्रमण को नियंत्रित किया जा सकता है।

'थेप्सीगार्गिन' नामक इस एंटीवायरल दवा का कोशिकाओं और जानवरों पर प्रयोग किया गया है। जब इसका इस्तेमाल सक्रिय संक्रमण से पहले या बाद में किया जाता है तो यह वायरस संक्रमण के खिलाफ प्रभावी होती है। इस दवा को लेने के 30 मिनट बाद से 48 घंटे तक कोशिकाओं में नए वायरस पैदा नहीं होते हैं। शोधकर्ताओं के मुताबिक चूंकि पेट में पाए जाने वाले एसिडिक पीएच में यह दवा स्थिर रहती है, इसलिए इसे मुंह के माध्यम से भी लिया जा सकता है। दवा लेने के लिए ना तो इंजेक्शन की जरूरत पड़ती है और ना ही इसके लिए अस्पताल में भर्ती होना जरूरी है।

अध्ययन के मुताबिक वर्तमान में मौजूद दूसरी एंटीवायरल दवाओं के मुकाबले यह कई सौ गुना प्रभावी है। नॉटिंघम विश्वविद्यालय के प्रोफेसर किन चाऊ के मुताबिक फिलहाल शोध शुरुआती चरण में है, लेकिन यह निष्कर्ष बेहद महत्वपूर्ण है कि इसका प्रभाव कोरोना वायरस पर कैसे पड़ता है। चूंकि भविष्य की महामारियां पशुओं से फैलेंगी इसलिए इस तरह की एंटीवायरल दवाएं संक्रमण को रोकने में प्रभावी भूमिका निभा सकती हैं।