संसद में अमित शाह से मुलाकात करने के लिए एनएसए अजीत डोभाल और सीपी एसएन श्रीवास्‍तव पहुंचे

 

संसद में गुरुवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह

किसान आंदोलन पर मचे सियासी घमासान के बीच संसद में गुरुवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मिलने के लिए एनएसए अजीत डोभाल और पुलिस कमिश्‍नर एसएन श्रीवास्तव पहुंचे। दिल्‍ली की सुरक्षा की रणनीति पर बात हो सकती है।

 नई दिल्‍ली, एजेंसी। किसान आंदोलन पर मचे सियासी घमासान के बीच संसद में गुरुवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मिलने के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल, आइबी प्रमुख और दिल्ली के पुलिस कमिश्‍नर एसएन श्रीवास्तव पहुंचे।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बुधवार को ट्वीट के जरिए पलटवार करते हुए कहा था कि कोई प्रोपेगेंडा देश की एकता को नहीं तोड़ सकता। एकजुट होकर प्रगति की ओर चलेंगे। कोई भी दुष्प्रचार भारत को ऊंचाइयों तक जाने से नहीं रोक सकता। गृहमंत्री अमित शाह ने ये बातें विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव के ट्वीट पर लिखी थी।

गुरुवार को गाजीपुर बार्डर विपक्षी नेताओं का एक दस्ता वहां पहुंचा। इसमें 8 राजनीतिक दलों के सांसद थे। सांसदों ने हालात का जायजा लिया। अब लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला से मिलेंगे और उन्हें पूरा हाल बताएंगे। विपक्ष के सांसदों की टीम में अकाली दल सांसद हरसिमरत कौर, एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले, डीएमके सांसद कनिमोझी, टीएमसी सांसद सौगत रॉय शामिल रहे। इन सांसदों को दिल्ली पुलिस ने धरनास्थल से पहले ही रोक दिया था। बाद में सांसदों ने कुछ किसान नेताओं से मुलाकात की और उनकी तकलीफ को समझा।

इस मौके पर पूर्व केंद्रीय मंत्री और अकाली दल से सांसद हरसिमरत कौर ने कहा कि बार्डर पर 3 किमी तक बैरिकेडिंग लगी हुई हैं, ऐसे में किसानों की क्या हालत हो रही होगी, हमें भी यहां रोका जा रहा है हमें भी उनसे मिलने नहीं दे रहे। 13 लेवल की बैरिकेडिंग की गई है, इतना तो हिंदुस्तान के अंदर पाकिस्तान बॉर्डर पर भी नहीं है।

तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग को लेकर दिल्ली-हरियाणा के सिंघु बॉर्डर पर चल रहा किसान आंदोलन गुरुवार को 71वें दिन में प्रवेश कर गया है। इस बीच सिंघु के साथ-साथ गाजीपुर और टीकरी बॉर्डर पर भी सुरक्षा व्यवस्था कड़ी की गई है। रिजर्व पुलिस बल और सीआइएसएफ के जवानों की तैनाती 2 सप्ताह तक और बढ़ाने का निर्णय लिया गया है।