हरियाणा में हथिनीकुंड बैराज पर यमुना का जलस्तर घटा, यूपी को सप्लाई बंद, दिल्‍ली को भी पानी में कटौती

 

हरियाणा के यमुनानगर का ह‍थिनीकुंड बैराज। (फाइल फोटो)

हरियाणा के हथिनीकुंड बैराज पर यमुना नदी का जलस्‍तर काफी घट गया है। इससे दिल्‍ली को भी पानी की सप्‍लाई में कटौती की गई है और यूपी की सप्‍लाई बंद कर दी गई है।

यमुनानगर। सावधान हो जाएं, अब सर्दी में जल संकट का सामना कराना पड़ सकता है। कड़ाके की ठंड का असर नदियों के बहाव पर देखा जा रहा है। हरियाणा के हथिनीकुंड बैराज पर यमुना नदी का जल स्तर काफी घट गय है। इस कारण विभिन्‍न राज्‍यों को बैराज से पानी की सप्‍लाई पर भी असर पड़ रहा है। उत्‍तर प्रदेश को पानी की सप्‍लाई बंद कर दी गई है तो दिल्‍ली को दिए जा रहे पानी में भी कटौती की गई है।

अन्य नदियों में भी लगातार कम हो रहा जल, छह वर्ष पहले बनी थी ऐसी स्थिति

हथिनीकुंड बैराज पर यमुना नदी के जल बहाब का स्‍तर घटकर 1502 क्यूसेक रह गया है। इस कारण उत्तर प्रदेश के पानी की सप्लाई पूरी तरह बंद कर दी गई है। जलीय जीवों के लिए 352 क्यूसेक पानी यमुना नदी में छोड़ा जा रहा है। पश्चिमी यमुना नहर का 1150 क्यूसेक बहाव है। दिल्ली के लिए मात्र 761 क्यूसेक की सप्लाई हो रही है। इस तरह की स्थिति छह वर्ष पहले बनी थी। हरियाणा के हथिनीकुंड बैराज से छोड़ा जाने वाला पानी देश की राजधानी दिल्ली के साथ-साथ हरियाणा व पश्चिमी व उत्तरी उत्तर प्रदेश को जाता है।

विभिन्न राज्यों में जाता है पानी

सिंचाई विभाग के अधिकारियों ने बताया कि हथिनीकुंड बैराज से विभिन्न राज्यों को पानी जाता है। सभी राज्यों में पानी छोडऩे के बाद 352 क्यूसेक पानी यमुना में छोड़ा जाता है। यह नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने निर्धारित किया है। यहां से उत्तर प्रदेश को 1600 क्यूसेक पानी दिया जाता है लेकिन इन दिनों सप्लाई पूरी तरह बंद कर दी गई है। इससे जलीय जीवों को भी खतरा है। क्योंकि नदियों में जल स्तर लगातार घट रहा है।  '' नदियों में पानी का जलस्तर घटता-बढ़ता रहता है। पहाड़ों पर बर्फबारी के चलते जल स्तर में कमी आ जाती है। मौसम सामान्य होने पर जलस्तर बढ़ जाएगा।