नेपाल पुलिस ने भारतीय नागरिकों के प्रवेश पर लगाई रोक, वरिष्‍ठ अधिकारियों के हस्‍तक्षेप के बाद खुली सीमा

 

नेपाल की पुलिस भारतीय नागरिकों को नेपाल में प्रवेश को कुछ घंटे के लिए रोक दिया था।

भारत-नेपाल के सोनौली सीमा पर नेपाल पुलिस ने भारत से नेपाल जा रहे नागरिकों के प्रवेश पर एका एक प्रतिबंध लगा दिया। जिसके कारण बार्डर पर कुछ देर के लिए तनाव व्याप्त हो गया। नोमेंस लैंड के दोनों तरफ सीमाओं में भारी भीड़ जुट गई।

गोरखपुर। भारत-नेपाल के सोनौली सीमा पर नेपाल पुलिस ने भारत से नेपाल जा रहे नागरिकों के प्रवेश पर एका एक प्रतिबंध लगा दिया। जिसके कारण बार्डर पर कुछ देर के लिए तनाव व्याप्त हो गया। नोमेंस लैंड के दोनों तरफ सीमाओं में भारी भीड़ जुट गई। बीते एक सप्ताह से दोनों देशों के नागरिकों को पैदल आवागमन की छूट दी गई है, लेकिन अचानक नेपाल पुलिस ने भारत से नेपाल जा रहे लोगों को रोक लिया। देखते ही देखते लंबी कतारें सरहद पर लग गई। 

पांच घंटे तक रहा जाम

करीब पांच घंटे तक ऊहापोह की स्थिति उत्पन्न रही। इस व्यवस्था की सूचना पर नेपाल रुपंदेही जिले के पुलिस अधीक्षक प्रवीण पोखरेल ने सीमा का हाल जाना। उन्होंने सीमा पर तैनात प्रहरी दल से कड़े रूख में नागरिकों को रोकने का कारण पूछा तो वह स्पष्टीकरण नहीं दे पाए। जिससे भारतीय सीमा से नेपाल में लोगों को प्रवेश शुरू कर दिया गया। भारतीय सीमा के एसएसबी 22 वीं वाहनी कमांडेंट मनोज कुमार सिंह ने बताया कि बार्डर पर स्थिति सामान्य है। किसी तरह का कोई नया दिशा-निर्देश जारी नहीं हुआ है।

कोहरे की आड़ में चल रहा पशु तस्करी का धंधा

नेपाल की सीमावर्ती जिलों में गोवंश का धीरे-धीरे सफाया करने के बाद भी पशु तस्करों के पैसा कमाने की लत शांत नहीं हो रही है। बेखौफ तस्कर बाहर के पशु बाजारों से लाए गए दुधारु भैंसों व गायों को सीमावर्ती गांवों के रास्ते नेपाल की सीमा में पहुंचाकर अवैध कमाई कर रहे हैं। भारत- नेपाल सरहद पर सुरक्षा एजेसिंयों की कड़ी चौकसी के बाद भी पशु तस्करी का खेल बदस्तूर जारी है।

क्षेत्र में सक्रिय पशु तस्कर कोल्हुई व गोरखपुर के समीप लगने वाले पशु बाजारों से पिकअप वाहनों में भरकर लाए गए भैंसों व गायों को कोल्हुई, पुरंदरपुर, नौतनवा थाना क्षेत्रों की सीमा को पार करते हुए परसामलिक थाने की सीमा में पहुंचा दे रहे हैं। फिर वहां से पशुओं को विभिन्न गांवों में सुरक्षित स्थानों पर उतार दिया जा रहा है। जहां से गिरोह के सदस्य घने कोहरे की आड़ में उन्हें चराते हुए सरहद की ओर जाने वाले पगडंडी रास्तों से नेपाल की सीमा में पहुंचा दे रहे हैं। पुलिस क्षेत्राधिकारी अजय सिंह चौहान का कहना है कि मामला संज्ञान में नहीं है। क्षेत्र में अवैध कारोबार पर नजर रखने के लिए सुरक्षा एजेंसियों को जरूरी निर्देश दिए गए हैं।