एम्स निदेशक ने पत्र लिखकर डाक्टरों व कर्मचारियों से की है ये खास अपील, जानिए क्या कहा

 

एम्स निदेशक डा. रणदीप गुलेरिया ने विभागों के फैक्लटी, रेजिडेंट डाक्टरों, छात्रों व कर्मचारियों को पत्र लिखा है।

एम्स के निदेशक डा. रणदीप गुलेरिया सहित कई वरिष्ठ डाक्टरों द्वारा पहले ही दिन कोरोना का स्वदेशी टीका कोवैक्सीन लिए जाने के बावजूद टीकाकरण को लेकर संस्थान के कर्मचारियों में ज्यादा उत्साह नहीं देखा गया। देश में करीब 70 लाख लोगों को कोरोना का टीका लग चुका है।

नई दिल्ली। एम्स के निदेशक डा. रणदीप गुलेरिया सहित कई वरिष्ठ डाक्टरों द्वारा पहले ही दिन कोरोना का स्वदेशी टीका कोवैक्सीन लिए जाने के बावजूद टीकाकरण को लेकर संस्थान के कर्मचारियों में ज्यादा उत्साह नहीं देखा गया। इस वजह से एम्स में अभी तक बहुत कम स्वास्थ्य कर्मियों काे टीका लग पाया है। स्वास्थ्य कर्मियों को पहली डोज टीका लगाने के लिए अब गिनती के कुछ दिन ही बचे हैं।

ऐसे में यदि शेष बचे डाक्टरों व कर्मचारियों ने जल्दी टीका नहीं लगवाया तो उन्हें बाद में टीका नहीं लग पाएगा। लिहाजा, एम्स के निदेशक डा. रणदीप गुलेरिया ने बृहस्पतिवार को सभी विभागों के फैक्लटी, रेजिडेंट डाक्टरों, छात्रों व कर्मचारियों को पत्र लिखकर टीका लेने की अपील की है। साथ ही उनके निर्देश पर एम्स प्रशासन ने भी कर्मचारियों से जल्द टीका लगवाने के लिए कहा है। 

डा. गुलेरिया ने एम्स के कर्मचारियों को लिखे पत्र में कहा है कि देश में करीब 70 लाख लोगों को कोरोना का टीका लग चुका है। इस बात की कोशिश की जा रही है कि देश के हर व्यक्ति को टीका लग सके। एम्स में तीन टीकाकरण केंद्र बनाए गए हैं। संस्थान के कई वरिष्ठ डाक्टर टीका लगवा भी चुके हैं। कोरोना के खिलाफ लड़ाई में जीत के लिए हमारा दायित्व है कि सभी स्वास्थ्य कर्मी टीका लगवाएं। एम्स में हेल्पलाइन भी शुरू की गई है। कर्मचारी हेल्पलाइन पर कॉल करके अपनी सुविधा के अनुसार टीकाकरण केंद्र पर पहुंचकर टीका लगवा सकते हैं।

25 फरवरी के बाद स्वास्थ्य कर्मियों को नहीं लगेगा टीके की पहली डोज

एम्स के चिकित्सा अधीक्षक डा. डीके शर्मा ने भी एक दिशा निर्देश जारी किया है। जिसमें कहा गया है कि केंद्र सरकार ने 20 फरवरी तक स्वास्थ्य कर्मियों का टीकाकरण पूरा करने का लक्ष्य रखा है। 25 फरवरी तक हर हाल में पहली डोज लगाने का काम पूरा कर लेना है। इसके बाद टीका नहीं लग पाएगा। 25 फरवरी तक टीका नहीं लगवाने पर यह माना जाएगा कि संबंधित कर्मचारी टीका नहीं लेना चाहते।

10 दिन तक चलेगा विशेष अभियान

डा. डीके शर्मा ने दिशा निर्देश में कहा है कि सरकार ने जिला प्रशासन को निर्देश दिया है कि अगले 10 दिन में उन सभी स्वास्थ्य कर्मचारियों से संपर्क कर और टीकाकरण के लिए मैसेज भेजे जिन्होंने अभी तक टीका नहीं लिया है। इसलिए अगले 10 दिन स्वास्थ्य कर्मियों का टीकाकरण पूरा करने के लिए विशेष अभियान चलेगा।

स्वास्थ्य कर्मचारी सुबह नौ बज से शाम पांच बजे के बीच कभी भी नए ओपीडी ब्लाक में स्थित टीकाकरण केंद्र पर पहुंचकर टीका लगवा सकते हैं। उल्लेखनीय है कि एम्स में करीब 15 हजार कर्मचारी हैं। इसके अलावा मेडिकल व नर्सिंग के छात्रों को भी टीका लगना है। इस लिहाज से करीब 18 हजार लोगों को एम्स में टीका लगाया जाना है।