पूर्व राष्‍ट्रपति ट्रंप पर शुरू हुए महाभियोग के ट्रायल में उनके वकील ने क्‍यों बताया इसे असंवैधानिक

 

ट्रंप के खिलाफ महाभियोग का पहला ट्रायल शुरू

अमेरिका के पूर्व राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग की प्रक्रिया के तहत पहला ट्रायल शुरू हो गया है। हालांकि इस पर फैसले को लेकर अभी असमंजस बरकरार है। मंगलवार को इसके लिए सीनेट में वोटिंग भी हुई थी।

वाशिंगटन (रॉयटर्स)। अमेरिका के पूर्व राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग का ट्रायल शुरू हो गया है। हालांकि, जहां तक इसके परिणाम की बात है तो वो काफी कुछ रिपब्लिकन के पक्ष में जा सकता है। मंगलवार को सीनेट में महाभियोग का पहला ट्रायल शुरू करने के लिए हुई वोटिंग में 56 के मुकाबले 44 वोट पड़े, जिसे

 ट्रंप के वकील ने खारिज कर दिया। 

डेमोक्रेट का मानना है कि इस प्रक्रिया के बाद ट्रंप को भविष्‍य के लिए अयोग्‍य करार दे दिया जाएगा। जिसके बाद वो फिर कभी कोई सार्वजनिक पद पर काबिज नहीं हो सकेंगे। लेकिन मंगलवर को जो बात सामने आई उसमें इसके लिए लंबा इंतजार करना पड़ सकता है। मंगलवार को हुई वोटिंग के दौरान छह रिपब्लिकन सांसदों ने डेमोक्रेट पार्टी का साथ देते हुए ट्रंप के खिलाफ महाभियोग का पहला ट्रायल शुरू करने के पक्ष में वोट डाला। आपको बता दें कि ट्रंप को किसी तरह की सजा सुनाने के लिए दो तिहाई बहुमत की जरूरत होगी।

इस महाभियोग के ट्रायल के दौरान ट्रंप के वकील का कहना था कि उनके ऊपर किसी भी तरह से महाभियोग चलाना संवैधिानिक नहींं है। इसकी वजह है कि अब वो किसी भी पद पर काबिज नहीं है और साधारण नागरिक है। अमेरिका का संविधान किसी भी आम नागरिक पर महाभियोग चलाने की इजाजत नहीं देता है। इनकी दलील ये भी थी कि 6 जनवरी को केपिटल बिल्डिंग में हुई हिंसा के लिए ट्रंप ने समर्थकों को नहीं उकसाया था। 

डेमोक्रेट पूर्व राष्‍ट्रपति ट्रंप के खिलाफ महाभियोग के ठोस आधार के रूप में उस वीडियो को सामने ला रहे हैं जिसमें ट्रंप ने अपने समर्थकों से 3 नवंबर को हुए राष्‍ट्रपति चुनाव के बाद जो परिणाम सामने आए उसके खिलाफ एकजुट होने की बात कही थी। जिस वीडियो का यहां पर जिक्र किया गया है उसमें ट्रंप समर्थक सुरक्षाकर्मियों पर हमला करते हुए और केपिटल बिल्डिंग में हिंसा करते हुए दिखाई दे रहे हैं।

केपिटल बिल्डिंग में हुई हिंसा के दौरान कई सांसद इतना डर गए थे कि वो इधर-उधर छिप गए थे। इस वीडियो क्लिप को दिखाने के बाद रिपब्लिकन सांसदों पर कटाक्ष करते हुए डेमोक्रेट सांसद जेमी रस्किन ने कहा कि यदि ये सब कुछ महाभियोग का आधार नहीं बनता है तब तो कोई बात ही नहीं है। जेमी उन नौ सदस्‍यों में शामिल हैं जो इस मामले को देख रहे हैं।

आपको बता दें कि ट्रंप के ऊपर दूसरी बार महाभियोग चलाया जा रहा है। यहां पर उनका प्रतिनिधित्‍व वकील ब्रूस एल कैस्‍टर और डेविड स्‍कोन कर रहे हैं। उन्‍होंने इस संबंध में ट्रायल ब्रिफ भी दायर की है जिसमें उन्होंने महाभियोग की प्रक्रिया को गलत बताते हुए उनके द्वारा दी गई स्‍पीच को उनका अधिकार बताया है। आपको बता दें कि 6 जनवरी को उन्‍होंने अपने समर्थकों को संबोधित था। इसके बाद उनके समर्थकों ने केपिटल बिल्डिंग में घुसकर जबरदस्‍त हिंसा मचाई थी, जिसमें पांच लोगों की मौत हो गई थी जबकि कई अन्‍य घायल हो गए थे।