म्यांमार में प्रदर्शनकारियों पर सेना ने की फायरिंग, पांच लोगों की मौत, कई घायल


प्रदर्शनकारी देश की सर्वोच्च नेता आंग सान सू को रिहा करने की मांग कर रहे हैं।

म्यांमार में तख्तापलट के खिलाफ हो रहे विरोध प्रदर्शनों पर पुलिस फायरिंग कर रही है। इसकी वजह से कई लोगों की मौत भी हो चुकी है। तख्तापलट का विरोध कर रहे लोगों को सैन्य समर्थकों ने निशाना बनाया।

यंगून, रायटर। म्यांमार की पुलिस ने सैन्य शासन के खिलाफ विरोध प्रदर्शनों कर रहे लोगों पर रविवार को फायरिंग की। जानकारी के मुताबिक इसमें कम से कम चार लोग मारे गए है और कई लोगों के घायल होने की खबर है। वहीं, मुख्य शहर यंगून में शिक्षकों को के विरोध प्रदर्शन के दौरान एक महिला की मौत हो गई है। हालांकि, उसकी मौत का कारण अभी तक पता नहीं चल पाया है।

प्रदर्शनकारी लगातार सैन्य शासन को खत्म करने के अलावा सर्वोच्च नेता आंग सान सू की समेत दूसरे नेताओं को रिहा करने की मांग कर रहे हैं। यहां पर जनता का विरोध संयुक्त राष्ट्र में म्यांमार के राजदूत के सैन्य शासन के खिलाफ कार्रवाई के बयान के बाद और बढ़ गया है।

एक फरवरी को म्यांमार की सेना ने देश में तख्तापलट कर सत्ता पर अपना कब्जा कर लिया था। इस दौरान देश की सर्वोच्च नेता और नोबेल पुरस्कार विजेता आंग सान सू ची समेत उनकी पार्टी नेशनल लीग फॉर डेमोक्रेसी के अन्य नेताओं को नजरबंद करके आपातकाल लगा दिया गया था।

वहीं, शनिवार को मोनव्या शहर में पुलिस ने फायरिंग करते हुए एक महिला को गोली मार दी गई थी, जबकि कई लोग घायल हुए। पुलिस ने जनता पर वाटर कैनन ने पानी की बौछार भी की। शनिवार को पुलिस ने और अधिक सख्ती दिखाने के साथ यंगून और मंडाले में व्यापक पैमाने पर गिरफ्तारियां भी कीं।