महाराष्ट्र के भाजपा विधायक कीर्ति कुमार और राजस्थान के पुलिसकर्मियों के बीच सीकर में विवाद


महाराष्ट्र के भाजपा विधायक कीर्ति कुमार और राजस्थान के पुलिसकर्मियों के बीच सीकर में विवाद। फाइल फोटो
महाराष्ट्र से आए भाजपा विधायक कीर्ति कुमार और पुलिसकर्मियों के बीच शनिवार को राजस्थान के सीकर में जमकर विवाद हुआ। आखिरकार पुलिस ने विधायक उसके पिता सहित पांच लोगों के खिलाफ शांति भंग करने का मामला दर्ज किया।

 संवाददाता, जयपुर।  राजस्थान के सालासर हनुमान मंदिर में दर्शन करने महाराष्ट्र से आए भाजपा विधायक कीर्ति कुमार और पुलिसकर्मियों के बीच शनिवार को सीकर में जमकर विवाद हुआ। आखिरकार पुलिस ने विधायक, उसके पिता सहित पांच लोगों के खिलाफ शांति भंग करने का मामला दर्ज किया। पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर पांच घंटे तक थाने में बिठाए रखा, बाद में जमानत पर उन्हें  छोड़ दिया गया। इस दौरान उनके साथ आए लोग बस में बैठकर परेशान होते रहे। महाराष्ट्र में नागपुर जिले के चिम्मूर से भाजपा विधायक कीर्ति कुमार अपने परिजनों के साथ एक बस में सवार होकर सालासर हनुमान मंदिर में दर्शन करने जा रहे थे।

सीकर के पास दोपहर करीब 12 बजे बस चालक रास्ता भटक गया और बाइपास से गुजरने के बजाय शहर के अंदर पहुंच गया। इस दौरान दो यातायात पुलिसकर्मियों ने बस को रुकवाया। बस चालक ने बताया कि वे प्रदेश से बाहर के हैं, रास्ता भटक गए। पुलिसकर्मी यदि चाहें तो चालान काट सकते हैं और हमें सही रास्ता बता दे। यातायात पुलिसकर्मियों ने बस को वहीं रोक लिया। वहां बस चालक का 500 रुपये का चालान काट दिया गया। बस चालक का लाइसेंस जब्त कर लिया। बस में बैठे विधायक और उनके परिजनों को पता चला कि चालक का चालान काटने के साथ ही लाइसेंस जब्त कर लिया गया तो वे नीचे उतरे। कीर्ति कुमार ने खुद को महाराष्ट्र का विधायक बताया और पुलिसकर्मियोें की शिकायत राजस्थान के परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास से करने की बात कही।

इसी बात को लेकर दोनों पक्षों में विवाद हो गया। दोनों पक्षों ने एक-दूसरे का गिरेबान पकड़कर धक्कामुक्की की। नौबत मारपीट तक पहुंच गई। इस दौरान पुलिसकर्मी गिरधारी सिंह की वर्दी फट गई, उनके गले और हाथों पर नाखूनों की खरोंच आई। विधायक सहित उनके साथियों के भी खरोंच आई। पुलिस ने यातायात पुलिसकर्मी गिरधारी सिंह का मेडिकल करा कर विधायक कीर्ति कुमार, उनके साथ मितेश, बंटी बगडिया को शांति भंग के आरोप में गिरफ्तार कर लिया। महिला कांस्टेबल कमला की शिकायत पर राजकार्य में बाधा डालने का मामला दर्ज किया गया। विधायक और उनके साथी पुलिस थाने में बैठे रहे, वहीं बस में सवार महिलाएं व बच्चे तेज धूप में परेशान होते रहे।