परमाणु हथियारों के इस्तेमाल पर जानिए भारत का क्या है रुख, विदेश सचिव ने दिए अहम संकेत

विदेश सचिव ने रूस और अमेरिका के बीच नयी स्टार्ट संधि के विस्तार का स्वागत किया।

भारतीय विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने कहा कि भारत उस दस्तावेज में वर्णित कदमों को आगे बढ़ाने का आह्वान करता है जिसमें समग्र परमाणु हथियार निरस्त्रीकरण संधि पर सम्मेलन को लेकर वार्ता का विषय शामिल है ।

नई दिल्ली, प्रेट्र। विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने सोमवार को कहा कि भारत एक जिम्मेदार परमाणु हथियार संपन्न देश के तौर पर परमाणु हथियारों का पहले उपयोग नहीं करने के रुख के साथ न्यूनतम विश्वसनीय प्रतिरोधक क्षमता बनाए रखने को प्रतिबद्ध है। उन्होंने यह भी कहा कि भारत, परमाणु हथियार रहित देशों के खिलाफ इसका उपयोग नहीं करने के लिए भी प्रतिबद्ध है।

निरस्त्रीकरण विषय पर उच्चस्तरीय सम्मेलन को संबोधित करते हुए श्रृंगला ने कहा कि भारत सार्वभौमिक, भेदभाव रहित, पुष्टि योग्य परमाणु निरस्त्रीकरण के लक्ष्य के लिए भी प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा, 'हमें अपने मतभेदों से ऊपर उठकर सामूहिक लक्ष्य हासिल करने के लिए सच्चे इरादे और राजनीतिक इच्छाशक्ति का प्रदर्शन करने की जरूरत है।'

भारत समग्र एवं संतुलित कार्यक्रम की करता है वकालत: श्रंगला 

विदेश सचिव ने कहा कि निरस्त्रीकरण पर सम्मेलन के एजेंडे में निरस्त्रीकरण से जुड़ी महत्वपूर्ण चुनौतियों और अंतरराष्ट्रीय समुदाय के समक्ष पेश आने वाली अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा का विषय जुड़ा है। श्रृंगला ने कहा कि भारत समग्र एवं संतुलित कार्यक्रम की वकालत करता है ताकि वैश्विक महत्व के इस विषय पर वार्ता शुरू की जा सके। उन्होंने कहा कि हम चरणबद्ध प्रक्रिया के तहत परमाणु हथियारों को पूरी तरह समाप्त करने की बात करते हैं जो वर्ष 2007 के हमारे परमाणु निरस्त्रीकरण पर पत्र में उल्लिखित है।'श्रृंगला ने कहा कि भारत उस दस्तावेज में वर्णित कदमों को आगे बढ़ाने का आह्वान करता है जिसमें समग्र परमाणु हथियार निरस्त्रीकरण संधि पर सम्मेलन को लेकर वार्ता का विषय शामिल है। उन्होंने कहा कि भारत ने विखंडनीय सामग्री निषेध संधि (एफएमसीटी) पर निरस्त्रीकरण सम्मेलन वार्ता तत्काल शुरू करने का समर्थन किया है।

उन्होंने कहा, 'मैं भारत के निरस्त्रीकरण सम्मेलन में एफएमसीटी वार्ता में हिस्सा लेने को तैयार होने की बात को दोहराता हूं।' विदेश सचिव ने कहा कि बाह्व अंतरिक्ष में हथियारों की दौड़ रोकने का विषय निरस्त्रीकरण सम्मेलन का एक और बहुप्रतिक्षित विषय है और भारत इस विषय पर जल्द बातचीत शुरू होने को लेकर आशान्वित है।

इस सम्मेलन का यह उच्चस्तरीय हिस्सा ब्राजील की अध्यक्षता में आयोजित हुआ। श्रृंगला ने अपने संबोधन के दौरान कोविड-19 महामारी और उसके कारण उत्पन्न स्थितियों का जिक्र किया और ऐसे समय में वैश्विक एकजुटता और बहुपक्षीयता को मजबूत बनाने पर जोर दिया। उन्होंने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा से भारत निर्मित टीका मानवता को उपलब्ध कराने का वादा पूरा किया है। विदेश सचिव ने रूस और अमेरिका के बीच नयी स्टार्ट संधि के विस्तार का स्वागत किया।