सिंघु बार्डर पर सुरक्षा व्यवस्था हुई और कड़ी, NH-1 से धरना स्थल तक पहुंचना हुआ मुश्किल


किसान तीनों कृषि बिल वापस लेने की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं।

 धरना-प्रदर्शन बुधवार को 70वें दिन में प्रवेश कर गया। भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा है कि यह आंदोलन अक्टूबर तक चलेगा इसके बाद इस पर बैठक कर फैसला लिया जाएगा।

नई दिल्ली/सोनीपत/गाजियाबाद। तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों के विरोध में सिंघु बॉर्डर पर चल रहा धरना-प्रदर्शन बुधवार को 70वें दिन में प्रवेश कर गया।  सिंघु बॉर्डर पर सुरक्षा व्यवस्था को और सख्त कर दिया गया है। राष्ट्रीय राजमार्ग एक से लेकर सिंघु बॉडर यानी धरना स्थल तक आम नागरिकों के साथ साथ पत्रकारों का प्रवेश भी बंद है। इस बीच हरियाणा के जींद जिले में हुई महापंचायत में राकेश टिकैत ने कई बड़ा एलान किए हैं। उन्होंने कहा है कि केंद्र सरकार को तीनों केंद्रीय कृषि बिलों को रद करना ही पड़ेगा। बताया जा रहा है कि जींद से लौटने के बाद राकेश टिकैत यूपी बॉर्डर पर चल रहे किसानों के धरना-प्रदर्शन की कमान संभाल लेंगे।

कंक्रीट के ढांचे पर प्लास्टिक का जाल लगाने की तैयारी

टीकरी बार्डर पर नुकीले कील की पट्टी बिछाने के अब कंक्रीट के ढांचे पर प्लास्टिक का जाल लगाने की तैयारी चल रही है। पुलिसकर्मियों का कहना है यदि आंदोलनकारियों ने इस ओर पत्थरबाजी की तो जाल के कारण पुलिसकर्मी बचे रहेंगे। 

जींद में किसान महापंचायत का मंच टूटने से गिर गए टिकैत
हरियाणा के जींद जिले के कंडेला गांव में आयोजित किसान महापंचायत में मंच टूटने से भारतीय किसान यूनियन (टिकैत) के राष्‍ट्रीय प्रवक्‍ता राकेश टिकैत और अन्‍य किसान गिर गए। मंच टूटने के बाद राकेश टिकैत और पंजाब के किसान नेता बलबीर सिंह राजेवााल सहित कई नेता मंच के साथ नीचे गिर गए। गनीमत रही कि किसी को गंभीर चोट नहीं लगी। बड़ी संख्‍या में लोगों के मंच पर चढ़ जाने के कारण यह टूटा।

मंडी हाउस के पास वाम दलों का प्रदर्शन

मंडी हाउस पर लाल किला और दिल्ली हिंसा के गुनाहगारों को रिहा करने की मांग को लेकर वाम संगठनों का विरोध प्रदर्शन चल रहा है। ये लोग मंडी हाउस से संसद तक कूच करने की तैयारी में हैं, लेकिन दिल्ली पुलिस ने धारा 144 का हवाला देते हुए किसी भी प्रकार के विरोध प्रदर्शन या मार्च को गलत ठहराया है और यहां से जगह खाली करने की लगातार अपील कर रही है। सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। मार्च को देखते हुए मंडी हाउस और संसद भवन जंतर-मंतर जाने वाले सभी रास्तों को बैरिकेड से बंद कर दिया गया, इस कारण जाम की समस्या भी हो रही है। कई वाहन रास्ते में फंसे हुए हैं। प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच धक्का-मुक्की की नौबत बन रही है। पुलिस इन लोगों के पीछे ढकेल रही है, जबकि ये लोग बैरिकेड तोड़कर आगे बढ़ने की कोशिश में हैं। वहीं, मंडी हाउस मेट्रो स्टेशन सहित आसपास के लोकेशन पर सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाई दी गई है। यहां तक कि धारा-144 भी लागू कर दी गई है।  

देशभर में होगा चक्का जाम

आगामी 6 फरवरी को देशभर में होने वाले चक्का जाम को लेकर भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता ने कहा है कि वह दिल्ली-एनसीआर में चक्का जाम नहीं करेंगे। साथ ही 6 फरवरी के चक्के जाम को लेकर राकेश टिकैत ने बयान दिया कि दिल्ली-एनसीआर के पास ऐसा कुछ नहीं होगा। उन्होंने कहा है कि किसान अपनी-अपनी जगहों पर सड़क बंद करेंगे और प्रशासन को ज्ञापन भी देंगे।

इस बीच  दिल्ली पुलिस ने 26 जनवरी को लाल किला हिंसा में आरोपित दीप सिद्धू, जुगराज सिंह, गुरजंत सिंह, गुरजंत सिंह, जगबीर सिंह, बुटा सिंह, सुखदेव सिंह और इकबाल सिंह पर इनाम घोषित किया है। भारतीय किसान यूनियन के नेता और राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने एलान किया है कि वह बुधवार को जींद में कंडेला गांव पहुंच रहे हैं। वह यहां किसानों के लिए होने वाली महापंचायत में हिस्सा भी लेंगे। बता दें कि जींद में हो रही इस महापंचायत में हरियाणा के करीब 50 खापों के प्रतिनिधि भी महापंचायत शामिल होंगे। इस महापंचायत में किसान आंदोलन की आगामी रणनीति बनाई जाएगी।

सिंघु के साथ टीकरी और गाजीपुर बॉर्डर पर मिलाकर हजारों की संख्या में पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश से आए किसान तीनों कृषि बिल वापस लेने की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं। वहीं, 26 जनवरी को  गणतंत्र दिवस के दिन ट्रैक्टर और मोटरसाइकिल पर सवार करीब 300 उपद्रवियों ने लाल किला के अंदर जमकर उत्पात मचाया था। उपद्रवियों के आते ही लाल किले का लाहौरी गेट बंद कर दिया गया था। 

अक्टूबर तक चलेगी आंदोलन : राकेश टिकैत

इस बीच भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा है कि यह आंदोलन अक्टूबर तक चलेगा, इसके बाद इस पर बैठक कर फैसला लिया जाएगा।

इनाम रखने का निर्णय

दिल्ली पुलिस के रडार पर जुगराज सिंह के अलावा पंजाबी अभिनेता दीप सिद्धू व पंजाब के गैंगस्टर लखवीर सिंह उर्फ लक्खा सिधाना भी हैं। जुगराज ने खंभे पर चढ़कर झंडा फहराया था। दीप व लक्खा ने उपद्रवियों का नेतृत्व किया था। लिहाजा इन तीनों पर पुलिस आयुक्त ने इनाम रखने का निर्णय लिया है। इनाम की घोषणा जल्द ही की जाएगी।

पत्रकार मनदीप पुनिया को मिली जमानत

सिंघु बॉर्डर पर पुलिस अधिकारी के साथ बदसलूकी के आरोप में गिरफ्तार किए गए स्वतंत्र पत्रकार मनदीप पुनिया को मंगलवार को रोहिणी जिला अदालत से जमानत मिल गई है। अदालत ने 25 हजार रुपये के निजी मुचलके पर उन्हें जमानत दी है। मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट सतबीर सिंह लाम्बा ने कहा कि शिकायतकर्ता, पीड़ित और गवाह सभी पुलिसकर्मी हैं।

सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई बुधवार को

तीन कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग को लेकर 26 जनवरी को हजारों की संख्या में कृषि कानून विरोधियों ने ट्रैक्टर रैली निकाली थी। रैली के दौरान दिल्ली की सड़कों पर हिंसा फैल गई। कई जगह प्रदर्शनकारियों ने पुलिस के अवरोधकों को तोड़ दिया, वाहनों में तोड़ फोड़ की और लाल किले पर केसरिया ध्वज फहरा दिया। प्रधान न्यायाधीश एसए बोबडे, न्यायमूर्ति एएस बोपन्ना और न्यायमूíत वी रामसुब्रमण्यन की पीठ इन याचिकाओं पर सुनवाई करेगी। वकील विशाल तिवारी द्वारा दायर याचिका में हिंसा की जांच के लिए शीर्ष कोर्ट के सेवानिवृत्त जज की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय जांच आयोग गठित करने का अनुरोध किया गया है। तिवारी और वकील मनोहर लाल शर्मा की याचिका समेत कुछ अन्य याचिकाओं पर भी कोर्ट सुनवाई करेगा।