सीबीएसई ने बदली बोर्ड परीक्षा की तारीख, 13 से 15 मई के बीच नहीं होगी परीक्षा

सीबीएसइ ने बदली बोर्ड परीक्षा की तारीख

 सीबीएसई ने अपने 10वीं और 12वीं की परीक्षा की तारीखों में बदलाव किया है। इसके लिए बकायदा सीबीएसइ ने नोटिस जारी कर अपने बेवसाइट पर सूचना जारी की है। ताजा अपडेट के मुताबिक सीबीएसइ 13 मई से 15 मई के बीच परीक्षा नहीं होगी।

नई दिल्ली, : सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंड्री एजुकेशन ने अपने 10वीं और 12वीं की परीक्षा की तारीखों में बदलाव किया है। इसके लिए बकायदा सीबीएसई ने नोटिस जारी कर अपने बेवसाइट पर सूचना जारी की है। ताजा अपडेट के मुताबिक सीबीएसइ 13 मई से 15 मई के बीच परीक्षा नहीं होगी। सीबीएसइ के मुताबिक 10वीं और 12वीं दोनों ही बोर्ड की परीक्षा में बदलाव किया गया है। सीबीएसई की 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं 4 मई से 1 जून के बीच आयोजित की जाएंगी।

कक्षा 12वीं के बोर्ड परीक्षा में हुआ ये बदलाव

गणित की परीक्षा 31 मई को होगी जो पहले एक जून को होनी थी। वहीं फिजिक्स की परीक्षा जो पहले 13 मई को होनी थी वह अब आठ जून को होगी। इतिहास में भी बदलाव हुआ है जो अब 10 जून को होगा।

कक्षा 10वीं के बोर्ड परीक्षा में हुआ ये बदलाव

गणित की परीक्षा अब दो जून होगी। वहीं साइंस की परीक्षा अब  21 मई को होगी।

इससे पहले 31 दिसंबर को शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने बोर्ड परीक्षा की तारीख की घोषणा कर दी थी। घोषणा के मुताबिक 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं चार मई से 10 जून तक होनी थी। अब इसमें बदलाव किया गया है। वहीं बोर्ड परीक्षा के रिजल्ट जुलाई में जारी होगी। शिक्षा मंत्री निशंक ने इस तारीख की घोषणा से पहले ही अपने ट्विटर पर यह अपडेट जारी किया था कि 31 दिसंबर को बोर्ड परीक्षा की तारीख जारी होगी।

बता दें कि कोरोना वायरस के कारण फैली महामारी ने पूरे शिक्षा जगत ही नहीं पूरे ग्लोब को कुछ वक्त के लिए रोक दिया था। हर देश में लॉकडाउन लगा कर बीमारी को फैलने से रोका जा रहा था। ऐसे में सरकार ने स्कूल कॉलेज से लेकर हर चीज को बंद कर दिया था। इसी कड़ी में बोर्ड परीक्षा भी तय समय से आयोजित नहीं कि जा सकीं थीं। इधर लोगों में संशय भी बढ़ता जा रहा था कि बोर्ड परीक्षा बार कोरोना के कारण आयोजित होंगी भी या नहीं। इस पर बोर्ड की तरफ से यह बाद में सफाई दी गई कि बोर्ड परीक्षा देर से होंगी और ऑफलाइन ही होगी। यह ऑनलाइन क्लास के जैसे नहीं होंगी। कोरोना के कारण बच्चे घर पर ऑनलाइन मोड में पढ़ाई कर रहे थे।