जी-23 का साथ देने से सोलंकी का इन्कार, कहा- ऐसा काम नहीं करूंगा, जिससे पार्टी को हो नुकसान

 

पूर्व केंद्रीय मंत्री भरत सिंह सोलंकी ने राहुल गांधी को अपना नेता बताया।

गुजरात कांग्रेस के दिग्गज नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री भरत सिंह सोलंकी ने पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के समूह जी-23 का साथ देने से साफ इन्कार कर दिया। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी उनके नेता हैं और वे कांग्रेस को नुकसान हो ऐसा कोई काम नहीं करेंगे।

राज्य ब्यूरो, अहमदाबाद। गुजरात कांग्रेस के दिग्गज नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री भरत सिंह सोलंकी ने पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के समूह जी-23 का साथ देने से साफ इन्कार कर दिया। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी उनके नेता हैं और वे कांग्रेस को नुकसान हो, ऐसा कोई काम नहीं करेंगे।

कांग्रेस के बागी नेता सोलंकी ने जी-23 का साथ देने से किया इन्कार

कांग्रेस के बागी नेता सोलंकी से संपर्क कर गुजरात में अपना एक कार्यक्रम करना चाहते थे, लेकिन भरत सोलंकी ने इस समूह के नेताओं के साथ आने से साफ इन्कार कर दिया है। जी-23 के नेता जम्मू-कश्मीर के बाद देश के अन्य राज्यों में भी कांग्रेस में परिवर्तन की मुहिम को ले जाना चाहते हैं।

जी-23 के नेताओं की कांग्रेस में परिवर्तन की मुहिम को गुजरात में लगा झटका

लेकिन गुजरात में उनके शुरुआती प्रयास को ही झटका लगा है। जी-23 के नेता सोलंकी परिवार को अपने साथ लेकर गुजरात में कांग्रेस का एक समानांतर संगठन खड़ा करना चाहते हैं। लेकिन, इसमें उनको सफलता नहीं मिल रही है।

सोलंकी का दावा- अगले विस चुनाव में पार्टी रणनीति के साथ मैदान में उतरेगी और होगी सफल

गुजरात में कांग्रेस की करारी हार के बाद सोलंकी का दावा है कि अगले विधानसभा चुनाव में पार्टी अपनी परंपरागत रणनीति के साथ मैदान में उतरेगी तथा फिर सफल होगी।

2017 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने हर समुदाय को प्रतिनिधित्व दिया, जिसका पार्टी को लाभ हुआ

उनका यह भी दावा है कि 2017 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस सत्ता के करीब पहुंची। उसकी रणनीति में उनका बड़ा योगदान था। बतौर प्रदेश अध्यक्ष उन्होंने युवाओं, महिलाओं के साथ अनुसूचित जाति, आदिवासी, मुस्लिम, पाटीदार, ओबीसी आदि हर समुदाय को प्रतिनिधित्व दिया, जिसका पार्टी को लाभ हुआ।