कोरोना की वजह से कई राज्यों में 31 मार्च तक स्कूल-कॉलेज बंद, बोर्ड परीक्षाएं भी हुईं स्थगित

 

कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए बोर्ड परिक्षाओं को भी स्थगित कर दिया गया है।

कोरोना महामारी के कारण कई राज्यों ने स्कूल-कॉलेजों को 31 मार्च तक बंद रखने का आदेश दिया है। इसके अलावा बोर्ड परीक्षाओं को भी स्थगित कर दिया गया है। महाराष्ट्र गुजरात पंजाब और मध्य प्रदेश समेत कई राज्यों में लॉकडाउन और नाइट कर्फ्यू लगाया गया है।

नई दिल्ली। कोरोना वायरस एक बार फिर डराने लगा है। बीते 24 घंटों के दौरान देश में कोरोना वायरस के 40 हजार से अधिक नए मरीज मिले हैं। बढ़ते मामलों के मद्देनजर कई राज्यों ने स्कूल-कॉलेजों को 31 मार्च तक बंद रखने का आदेश दिया है। इसके अलावा बोर्ड परीक्षाओं को भी स्थगित कर दिया गया है। महाराष्ट्र, गुजरात ,पंजाब और मध्य प्रदेश समेत कई राज्यों में लॉकडाउन और नाइट कर्फ्यू लगाया गया है।

पंजाब में 31 मार्च तक स्कूल बंद

कोरोना के बढ़ते मामलों से निपटने के लिए पंजाब सरकार ने 11 जिलों में 31 मार्च तक स्कूलों और सभी शिक्षण संस्थान को बंद रखने का आदेश दिया है। हालांकि इस दौरान मेडिकल कालेज खुले रहेंगे। राज्य में होने वाली परीक्षाएं भी स्थगित कर दी गई हैं। इसके साथ ही सिनेमा घर, मल्टीप्लेक्स, रेस्तरां व माल रविवार को बंद रहेंगे। साथ ही घर में किसी भी आयोजन पर 10 से ज्यादा मेहमान इकट्ठा नहीं हो पाएंगे।

भोपाल, इंदौर और जबलपुर में भी स्कूल बंद

मध्य प्रदेश में कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए राज्य सरकार ने 31 मार्च तक भोपाल, इंदौर और जबलपुर में स्कूल-कॉलेज बंद रखने का निर्देश दिया है। इन तीनों शहरों में शनिवार रात 10 बजे से सोमवार सुबह तक के लिए लॉकडाउन की घोषणा कर दी। इस दौरान आवश्यक सेवाएं और उद्योग चालू रहेंगे, लेकिन किसी भी प्रकार का सामाजिक समारोह बिना अनुमति के नहीं होगा।

पुडुचेरी में आठवीं तक सभी स्कूल बंद

पुडुचेरी प्रशासन ने कक्षा एक से आठवीं तक के सभी स्कूलों को 22 मार्च से 31 मई तक बंद रखने का आदेश दिया है। स्कूली शिक्षा निदेशक पीटी रुद्र गौड़ की ओर से शुक्रवार को जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया कि कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए यह कदम उठाया गया है। उन्होंने कहा कि यह आदेश राज्य बोर्ड, सीबीएसई और आईसीएसई से संबद्ध सभी स्कूलों पर लागू होगा।

तमिलनाडु में अगले आदेश तक स्कूल बंद

कोरोना की रफ्तार को लेकर तमिलनाडु सरकार भी एक्शन मोड में आ गई है। राजस्व और आपदा प्रबंधन विभाग ने 22 मार्च से कक्षा 9वीं, 10वीं और 11वीं के छात्रों को स्कूल ना आने का आदेश दिया है। अगले आदेश तक स्कूल बंद ही रहेंगे। इसके अलावा उपरोक्त छात्रों के लिए छात्रावास भी बंद कर दिए गए हैं। हालांकि इन वर्गों के छात्रों के लिए ऑनलाइन / डिजिटल मोड से कक्षाएं जारी रहेंगी।