जापान के टोचिगी में नए बर्ड फ्लू का कहर, 77000 मुर्गियों को मारने का आदेश

 

वायरस को फैलने से रोकने के लिए इसकी चपेट में आए फार्म की 77,000 मुर्गियों को मारा जाएगा।

जापान के प्रभावित फार्म के 1.9 मील (3 किलोमीटर) के दायरे में एक संगरोध क्षेत्र स्थापित किया गया था और 10 किलोमीटर की सीमा के भीतर अंडे और पोल्ट्री उत्पादों के निर्यात पर प्रतिबंध लगाया गया दिया गया था।

टोक्यो, एएनआइ/स्पुतनिक। जापान में एक बार फिर बर्ड फ्लू तेजी से फैल रहा है। इसका सबसे ज्यादा असर टोचिगी प्रांत में देखने को मिल रहा है। जहां के फार्म में वायरस फैल रहा है। जापानी मीडिया ने शनिवार को बताया कि बर्ड फ्लू के नए प्रकोप से निपटने और इसे फैलने से रोकने के लिए इसकी चपेट में आए फार्म की  77,000 मुर्गियों को मारा जाएगा।

खबर के मुताबिक, प्रभावित फार्म के 1.9 मील (3 किलोमीटर) के दायरे में एक संगरोध क्षेत्र स्थापित किया गया था और 10 किलोमीटर की सीमा के भीतर अंडे और पोल्ट्री उत्पादों के निर्यात पर प्रतिबंध लगाया गया दिया गया था। टोचिगी प्रांत से पहले जापान के चीबी, कगवा, फुकुओका, हयोगो, मियाजाकी, हिरोशिमा, नारा, ओइता, वकायमा, शिगा, तोकुशिमा और कोचि में भी बर्ड फ्लू फैला था।

बता दें कि जनवरी में जापानी कृषि और मत्स्य मंत्रालय ने कहा था कि एवियन इन्फ्लूएंजा का नया प्रकोप बेहद घातक है। जापान में इसकी शुरूआत नवंबर में हई थी। बर्ड फ्लू की वजह से दिसंबर में बड़े पैमाने पर मुर्गियों को मारा गया था। जापान के 47 प्रान्तों में से 17 बर्ड फ्लू के प्रकोप ​से प्रभावित थे। कृषि मंत्रालय के अनुसार, बीमारी के प्रसार को रोकने के लिए लगभग 9.7 मिलियन (97 लाख) घरेलू पक्षियों को पहले ही मारा जा चुका है।वहीं, कोरोना महामारी के खिलाफ दुनिया भर में टीकाकरण अभियान जारी है। जापान में अब तक 4.46 लाख से अधिक लोगों कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं, जबकि 8,566 लोगों की जान जा चुकी है। दुनियाभर में जानलेवा वायरस से लगभग 12 करोड़ लोग संक्रमित हुए हैं और 26 लाख लोगों की जान जा चुकी है।