पाकिस्तान में बढ़ रही कोरोना की रफ्तार, 7 शहरों में लॉकडाउन; उड़ानों पर भी बढ़ा प्रतिबंध

 


लॉकडाउन के दौरान इनडोर और आउटडोर भोजन पर भी पूर्ण प्रतिबंध रहेगा।

पाकिस्तान में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए लाहौर रावलपिंडी सरगोधा फैसलाबाद मुल्तान गुजरांवाला और गुजरात के शहरों में दो सप्ताह तक लॉकडाउन लगाने का फैसला लिया गया है। इस दौरान लोगों की आवाजाही पर प्रतिबंध रहेगा।

लाहौर, आइएएनएस। पाकिस्तान में एक बार फिर कोरोना की रफ्तार बढ़ रही है। देश में कोविड-19 महामारी की तीसरी लहर के बीच पंजाब प्रांत के सात शहरों में लॉकडाउन लगाने का फैसला लिया गया है। सोमवार से सातों शहरों में लोगों की आवाजाही समेत कई प्रतिबंध लगू हो जाएंगे। पाकिस्तान में कोरोना वायरस के कारण पिछले साल लगे लॉकडाउन के करीब एक साल बाद फिर से लॉकडाउन लगाया जा रहा है। लाहौर, रावलपिंडी, सरगोधा, फैसलाबाद, मुल्तान, गुजरांवाला और गुजरात के शहरों में दो सप्ताह तक लॉकडाउन लागू रहेगा।

पंजाब प्रांतीय सरकार द्वारा शनिवार को जारी एक बयान के अनुसार, लॉकडाउन लोगों की आवाजाही को प्रतिबंधित करेगा। सार्वजनिक या निजी किसी भी स्थान पर सामाजिक, धार्मिक या अन्य उद्देश्यों के लिए सभी प्रकार के समारोहों पर पूर्ण प्रतिबंध होगा। इस दौरान शादी-पार्टी हॉल और सामुदायिक केंद्र भी बंद रहेंगे। इनडोर और आउटडोर भोजन पर भी पूर्ण प्रतिबंध रहेगा। हालांकि, सिर्फ टेकअवे और होम डिलीवरी की अनुमति होगी।बयान में यह भी कहा गया है कि पूरे प्रांत में सभी तरह के खेल, सांस्कृतिक और अन्य गतिविधियों और कार्यक्रमों पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा। शनिवार को भी पंजाब सरकार ने लाहौर सहित तीन शहरों के 36 और इलाकों में स्मार्ट लॉकडाउन लागू किया है।

उड़ानों पर यात्रा प्रतिबंध 

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच, पाकिस्तान ने उड़ानों पर लगाए गए प्रतिबंधों की अवधि को भी बढ़ा दिया है। नागरिक उड्डयन प्राधिकरण (सीएए) ने शनिवार को एक अधिसूचना में कहा कि प्रतिबंधों को 18 मार्च तक बढ़ाया गया है। सीएए ने 1 मार्च को इनबाउंड उड़ानों, निजी  और चार्टर्ड विमानों के लिए नए नियम लागू किए थे।

कोरोना के मामले 6 लाख के पार

पाकिस्तान में कोरोना वायरस के मामले बढ़कर 6 लाख को पार कर गए हैं। पिछले फरवरी में रिपोर्ट किए जाने के बाद से कोविड-19 संक्रमण13,476 लोगों की जान ले चुका है। जियो न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले 24 घंटों में 2,338 मामले दर्ज किए गए और 46 मरीजों की बीमारी के कारण मौत हो गई।