अफगानिस्तान बोला- भारत, पाकिस्तान के बीच अच्छे रिश्तों से पहुंचेगा फायदा, शांति पहल का किया स्वागत

 

अफगानिस्तान बोला- भारत, पाकिस्तान के बीच अच्छे रिश्तों से पहुंचेगा फायदा, शांति पहल का किया स्वागत

भारत में अफगानिस्तान के दूत फरीद मामुंडजे ने कहा पाकिस्तान के साथ अफगानिस्तान का 70 फीसद व्यापार वाघा अटारी सीमा के माध्यम से होता है। यदि भारत-पाकिस्तान के संबंध अच्छे हैं तो इससे अफगानिस्तान और क्षेत्र को लाभ होगा।

नई दिल्ली, एएनआइ। अफगानिस्तान ने भारत और पाकिस्तान के बीच हाल ही में शांति पहल का स्वागत किया है। अफगानिस्तान का कहना है कि एक शांतिपूर्ण पड़ोस देश की स्थिरता और समृद्धि के लिए बेहद अच्छी बात है। एएनआइ से बात करते हुए, भारत में अफगानिस्तान के दूत फरीद मामुंडजे ने कहा, 'पाकिस्तान के साथ अफगानिस्तान का 70 फीसद व्यापार वाघा अटारी सीमा के माध्यम से होता है। यदि भारत-पाकिस्तान के संबंध अच्छे हैं, तो इससे अफगानिस्तान और क्षेत्र को लाभ होगा, हम TAPI गैस पाइपलाइन, चाबहार बंदरगाह जैसी परियोजनाओं में सहयोग कर सकते हैं।'

उन्होंने आगे कहा कि हम एक शांतिपूर्ण पड़ोस चाहते हैं जहां समृद्धि, शांति मौजूद हो। असुरक्षा और अस्थिरता से किसी को फायदा नहीं होता। हम ऐसे घटनाक्रमों का स्वागत करते हैं जिनका व्यापक क्षेत्र की सुरक्षा पर बड़ा और सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। बता दें कि हाल ही में, भारत और पाकिस्तान की सेनाओं ने नई दिल्ली में सिंधु जल संधि पर वार्ता के बाद दोनों देशों की सेनाओं के बीच संघर्ष विराम हुआ है, जिससे बातचीत को लेकर माहौल बना है।

भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके पाकिस्तान समकक्ष इमरान खान के बीच पत्रों का भी आदान-प्रदान हुआ। सबसे पहले, मोदी ने पाकिस्तान के राष्ट्रीय दिवस पर खान को बधाई देते हुए एक पत्र लिखा, उसके बाद खान नें पत्र का जवाब दिया।

हालांकि, 'हार्ट ऑफ एशिया' सम्मेलन के दौरान, जहां विदेश मंत्री एस जयशंकर और उनके समकक्ष शाह महमूद कुरैशी मौजूद थे, उनके द्वारा खबर लिखे जाने तक कोई द्विपक्षीय बातचीत नहीं की।