बेस्ट फ़िल्म 'छिछोरे', बेस्ट एक्टर मनोज बाजपेयी और धनुष, बेस्ट एक्ट्रेस कंगना रनोट

 

Sushant Singh Rajput Film Chhichhore poster. Photo- Twitter/Amazon prime

दिल्ली स्थित नेशनल मीडिया सेंटर में विजेताओं के नामों का एलान किया गया। फीचर फ़िल्म केटेगरी में 461 और नॉन फीचर फ़िल्म केटेगरी में 220 फ़िल्मों को शामिल किया गया। समारोह का आयोजन 3 मई को किया जाता है।

नई दिल्ली। 67वें राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कारों का एलान सोमवार को किया गया। कोरोना वायरस पैनडेमिक की वजह से पुरस्कार समारोह लगभग सालभर विलम्बित हो गया है। आम तौर पर नेशनल फ़िल्म समारोह का आयोजन 3 मई को किया जाता है, मगर पैनडेमिक की वजह से आयोजन टल गया था। दिल्ली स्थित नेशनल मीडिया सेंटर में विजेताओं के नामों का एलान किया गया। फीचर फ़िल्म केटेगरी में 461 और नॉन फीचर फ़िल्म केटेगरी में 220 फ़िल्मों को शामिल किया गया है। 

दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की फ़िल्म 'छिछोरे' को बेस्ट हिंदी फीचर फ़िल्म घोषित किया गया है। नितेश तिवारी निर्देशित छिछोरे में सुशांत के साथ श्रद्धा कपूर, वरुण शर्मा, ताहिर राज भसीन ने मुख्य भूमिकाएं निभायी थीं। यह फ़िल्म 2019 में रिलीज़ हुई थी। यह फ़िल्म जीवन में कभी ना हार मानने का संदेश बेहद मनोरंजक ढंग से देती है। 

बेस्टर एक्टर साझा रूप से मनोज बाजपेयी और धनुष को चुना गया। मनोज को 'भोंसले' और धनुष को 'असुरन' के लिए यह अवॉर्ड दिया जा रहा है। मनोज बाजपेयी का यह तीसरा राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार है। इससे पहले उन्हें 'सत्या' के लिए बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर का राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार दिया गया था। वहीं, 'पिंजर' में अभिनय के लिए मनोज बाजपेयी को स्पेशल ज्यूरी अवॉर्ड दिया गया था। तमिल एक्टर धनुष की भी राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कारों में चौथी उपस्थिति है। 2010 में धनुष आडुकलम के लिए बेस्ट एक्टर का पुरस्कार जीत चुके हैं। इसके बाद 2014 और 2015 में वो सह-निर्माता के रूप में नेशनल अवॉर्ड्स तक पहुंचे थे।

'मणिकर्णिका- द क्वीन ऑफ़ झांसी' और 'पंगा' के लिए कंगना रनोट को बेस्ट एक्ट्रेस चुना गया। कंगना का यह चौथा नेशनल फ़िल्म अवॉर्ड है। उन्हें 'फैशन' के लिए सबसे पहले बेस्ट सपोर्टिंग एक्ट्रेस अवॉर्ड प्रदान किया गया था। इसके बाद 'क्वीन' और 'तनु वेड्स मनु रिटर्न्स' के लिए बेस्ट एक्ट्रेस चुना गया था। 

बाक़ी पुरस्कार इस प्रकार हैं-

बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर- विजय सेतुपति (सुपर डीलक्स- तमिल)

बेस्ट सपोर्टिंग एक्ट्रेस- पल्लवी जोशी (द ताशकंद फाइल्स- हिंदी)

बेस्ट मेल प्लेबैक सिंगर- बी प्राक (तेरी मिट्टी- केसरी)

बेस्ट फीमेल प्लेबैक सिंगर- सावनी रवींद्र (मराठी फ़िल्म- बार्दो)

बेस्ट फ़िल्म क्रिटिक- सोहिनी चट्टोपाध्याय

इंदिरा गांधी अवॉर्ड फॉर बेस्ट डेब्यू फ़िल्म ऑफ़ अ डायरेक्टर- हेलेन (मलयालम), निर्देशक- मुथुकुट्टी ज़ेवियर

बेस्ट नैरेशन (नॉन फीचर फ़िल्म)- वाइल्ड कर्नाटक (अंग्रेज़ी)- सर डेविड एटनबरो

बेस्ट म्यूज़िक डायरेक्शन (नॉन फीचर फ़िल्म)- क्रांति दर्शी गुरुजी, अहेड ऑफ़ टाइम्स (हिंदी)- बिशाखज्योति

बेस्ट बुक ऑन सिनेमा- अ गांधियन अफेयर: इंडियाज़ क्यूरियस पोर्ट्रेयल ऑफ़ लव इन सिनेमा, लेखक- संजय सूरी

मोस्ट फ़िल्म फ्रेंडली स्टेट- सिक्किम